Thursday, March 31, 2011

NBA places fabricated facts before PM

NBA places fabricated facts before PM
Bhopal: The Narmada Bachao Andolan activists, opposing the much needed Maheshwar Hydrill Power Project in Maheshwar, have intensified their anti-project activities and are trying to misguide the Central Government by distorting and manipulating false information. In a letter written to the Prime Minister Dr Manmohan Singh, the activists have claimed that dam construction works are on completion while R&R is still hardly 10 percent. The activists also alleged that the state government and the project officials are trying to complete the project while ignoring commitments towards oustees. The facts are totally wrong and misleading as most of the rehabilitation work is complete. The oustees are already constructing their brick houses on the new site. Residential plots to oustees have already been allotted through a transparent lottery system in February 2010. All basic amenities of top class are already existing on the rehabilitation site and many oustees families are already living there.
Few residents supporting NBA activists and were opposing rehabilitation at Mulgaon village. A village under submergence, have also joined hands in the process of development and are overwhelmingly supporting land acquisition. A few people have been left out of the survey as they earlier opposed rehabilitation under wrongful influence of NBA. These residents are now trying and approaching for rehabilitation.
NBA is trying to create confusion by divulging in mongering distorted picture of R&R works being carried out.

Although chief minister Shivraj Singh Chouhan has been pressing for completion of the project at the earliest, he still insists that due care must be taken of proper rehabilitation of the project oustees. The project officials have also ensured that best possible facilities of modern living are made available to those families under rehabilitation plan. A meeting of senior officials of the Ministry of Forest and Environment is scheduled in near future in order to scrap restrictions earlier imposed on part constructions. As the project is fast moving towards completion, the decision would go a long way to speed things further. NBA activists are trying to sabotage the project for their vested interests.
It needs mention here that a total of 22 villages are coming under submergence under the Maheshwar HEP. Out of these 13 villages are coming under total submergence while the remaining 9 villages will face partial submergence. Rehabilitation has been planned for 18 villages. There is no need for rehabilitation in 2 villages while residents of the remaining 2 villages have opted for cash compensation.
Development works are almost complete in 10 villages. Residential plots have been allotted in 8 rehabilitation sites while in two villages, the process of allotment is underway. In 6 villages work would start on availability of land required for R&R.

एनएसयूआई कार्यकर्ताओं का हल्ला बोल, पुलिस से हुई झड़प

एनएसयूआई कार्यकर्ताओं का हल्ला बोल, पुलिस से हुई झड़प
एनएसयूआई कार्यकर्ताओं का हल्ला बोल, पुलिस से हुई झड़प
भोपाल,31 मार्च 2011। मध्य प्रदेश में उच्च शिक्षण संस्थानों में व्याप्त तमाम गड़बड़ियों को लेकर विधानसभा का घेराव करने जा रहे भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन (एनएसयूआई) के कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच झड़पें हुईं। पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया। झड़पों में पुलिस अधिकारियों सहित कई कार्यकर्ता घायल हुए हैं।
एनएसयूआई के कार्यकर्ता गुरुवार को विधानसभा का घेराव करने जा रहे थे। प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए पुलिस ने पहले पानी की बौछारें छोड़ी। बैरीकेड्स पार करने की कोशिश कर रहे कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने लाठियां बरसाईं।
प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़प हुई। पुलिस के लाठीचार्ज की वजह से एनएसयूआई के कई कार्यकर्ताओं को चोटें आई हैं। वहीं दो पुलिस अधिकारियों को भी चोट लगने की जानकारी मिली है।
एनएसयूआई का आरोप है कि राज्य के उच्च शिक्षण संस्थानों में गड़बडियां चरम पर हैं जबकि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एवीबीपी) के लोग खुलेआम गुंडागर्दी कर रहे हैं।
गौरतलब है कि खंडवा के कृषि महाविद्यालय में एक प्राध्यापक से की गई बदसलूकी के कारण एक अन्य प्राध्यापक को इतना सदमा लगा कि उनकी मौत हो गई। इस घटना के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ अब तक कार्रवाई नहीं की गई है। प्रदर्शन में सुरेश पचौरी भी शामिल हुए।

Date: 31-03-2011 Time: 18:38:09

वर्ष तक के बच्चों की संख्या में 50 लाख की कमी

वर्ष तक के बच्चों की संख्या में 50 लाख की कमी
6 वर्ष तक के बच्चों की संख्या में 50 लाख की कमी
नई दिल्ली, 31 मार्च 2011। देश की 15वीं जनगणना के प्रारम्भिक आंकड़े गुरुवार को जारी किए गए, जिसके मुताबिक बच्चों (0-6 वर्ष) की कुल जनसंख्या में पिछले आंकड़ों की तुलना में 50 लाख की गिरावट दर्ज की गई है।
भारत के रजिस्ट्रार जनरल और जनगणना आयुक्त सी.चंद्रमौली द्वारा गुरुवार को जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक 0-6 वर्ष के बच्चों की कुल आबादी 15.88 करोड़ है जो वर्ष 2001 की जनसंख्या से लगभग 50 लाख कम है। इसमें 3.08 प्रतिशत की नकारात्मक वृद्धि दर्ज की गई है।
आंकड़ों के मुताबिक बच्चों (0-6 वर्ष) की संख्या में 2.42 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है जबकि बच्चियों (0-6 वर्ष) में 3.80 फीसदी की कमी दर्ज की गई है।
चंद्रमौली के मुताबिक 20 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में अब (0-6 वर्ष) के बच्चों की संख्या 10 लाख से ऊपर पहुंच गई है जबकि पांच अन्य राज्यों में इसी उम्र के बच्चों की संख्या 10 लाख से नीचे है। आंकड़ों के अनुसार उत्तर प्रदेश (2.97 करोड़), बिहार (1.86 करोड़), महाराष्ट्र (1.28 करोड़), मध्य प्रदेश (1.05 करोड़) और राजस्थान में इस उम्र के बच्चों की संख्या (1.05 करोड़) है। देश में बच्चों की कुल आबादी के 52 बच्चे इन राज्यों में हैं। चंद्रमौली ने बताया कि आबादी के 13.1 फीसदी बच्चे है जबकि पिछली जनगणना में यह आंकड़ा 15.9 फीसदी था, जिसमें 2.8 फीसदी की कमी आई है।


Date: 31-03-2011 Time: 16:25:30

भोपाल में बनेगा अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम : शिवराज

भोपाल में बनेगा अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम : भोपाल में बनेगा अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम : शिवराज
भोपाल, 31 मार्च 2011। विश्व कप के सेमीफाइनल मुकाबले में भारत द्वारा पाकिस्तान पर दर्ज की गई शानदार जीत को यादगार बनाए रखने के लिए मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में अंतर्राष्ट्रीय स्तर का क्रिकेट स्टेडियम बनाया जाएगा।
पंजाब के मोहली में खेले गए सेमीफाइनल मुकाबले में भारत ने बुधवार को पाकिस्तान को 29 रनों से पराजित किया था। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पाकिस्तान पर दर्ज की गई इस शानदार जीत पर यह घोषणा की और साथ ही भारतीय क्रिकेट टीम को जीत के लिए बधाई व फाइनल मुकाबले के लिए शुभकामनाएं दी। चौहान ने मैच को अपने आवास पर बड़ी स्क्रीन पर देखा और हर क्षण का आनंद लिया। इतना ही नहीं भारत को जैसे ही जीत मिली चौहान व उनकी धर्मपत्नी साधना सिंह ने आतिशबाजी भी की।
भारत की जीत पर चौहान ने कहा है कि अपने उत्कृष्ट प्रदर्शन के बल पर दूसरी बार विजेता का खिताब हमारी टीम को हासिल होगा। उन्होंने कहा कि क्रिकेट ने दोनों देशों के बीच सौहाद्र्रपूर्ण वातावरण बनाने तथा सांस्कृतिक संबंधों को प्रगाढ़ बनाने में अहम भूमिका निभाई है।
चौहान ने भारत की जीत को चिरस्थाई रखने के लिए भोपाल में अंतर्राष्ट्रीय स्तर का स्टेडियम बनाने की घोषणा की। ज्ञात हो कि मध्य प्रदेश के इंदौर और ग्वालियर में अंतर्राष्ट्रीय स्तर के स्टेडियम हैं लेकिन राजधानी भोपाल को हमेशा इसकी कमी खलती रही है।
Date: 31-03-2011 Time: 16:00:10

मप्र में 118 लोगों के जाति प्रमाणपत्र फर्जी

मप्र में 118 लोगों के जाति प्रमाणपत्र फर्जी
मप्र में 118 लोगों के जाति प्रमाणपत्र फर्जी
भोपाल, 29 मार्च 2011। मध्य प्रदेश में 118 लोगों के जाति प्रमाणपत्र फर्जी पाए गए हैं। अनुसूचित जाति, जनजाति प्रमाणपत्र छानबीन समिति ने इन सभी के खिलाफ कार्रवाई की अनुशंसा की है।
विधानसभा में विधायक प्रेम नारायण ठाकुर द्वारा पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए आदिम जाति कल्याण मंत्री विजय शाह ने बताया है कि सितम्बर 1997 में जाति प्रमाणपत्र छानबीन समिति का गठन किया गया था। यह समिति फर्जी प्रमाणपत्रों की जांच कर कार्रवाई के लिए जिलाधिकारियों को अनुशंसा भेजती है।
उन्होंने बताया कि छानबीन समिति के पास अनुसूचित जाति के 270 और अनुसूचित जनजाति के 339 मामले विचाराधीन हैं। इनमें से अनुसूचित जाति के 74 तथा अनुसूचित जनजाति के 44 लोगों के जाति प्रमाणपत्र फर्जी पाए गए हैं। इन सभी के खिलाफ कार्रवाई की अनुशंसा की गई है।
शाह ने बताया कि यह जरूरी नहीं है कि फर्जी प्रमाणपत्र धारी केवल शासकीय कर्मचारी या अधिकारी ही हों, इनमें कई अन्य लोग भी शामिल हो सकते हैं।

सूचना प्रौद्योगिकी से सरकारी खजाने के 20 करोड़ रुपये बचे

सूचना प्रौद्योगिकी से सरकारी खजाने के 20 करोड़ रुपये बचे
सूचना प्रौद्योगिकी से सरकारी खजाने के 20 करोड़ रुपये बचे
भोपाल, 28 मार्च 2011। मध्य प्रदेश के अनूपपुर जिले ने मितव्ययता की मिसाल पेश की है। इस जिले में विभिन्न विभागों की विविध योजनाओं को अमली जामा पहनाने के लिए जमीनी स्तर पर काम करने वाले लोगों से सीधे सम्पर्क स्थापित करने के लिए विकास खंड स्तर पर वीडियो कांफ्रेंसिंग का इस्तेमाल कर एक वर्ष में 20 करोड़ रुपये की बचत की गई है।
जिले में सरकारी योजनाओं की समीक्षा के लिए प्रति सप्ताह बैठकों का दौर चलता है, इन बैठकों में हिस्सा लेने के लिए जमीनी स्तर पर काम करने वालों के शामिल होने में उनके समय के साथ-साथ पैसा भी खर्च होता था। इसे रोकने में वीडियो कांफ्रेंसिग मददगार साबित हुई है। विकास खंड स्तर पर भारत संचार निगम, राष्ट्रीय सूचना केंद्र तथा मध्य प्रदेश इलेक्ट्रॉनिक कार्पोरेशन की मदद से वीडियो कांफ्रेंसिंग का सहारा लिया गया।
जिला मुख्यालय में मुख्य स्टूडियो बनाया गया है जबकि चार विकास खंडों अनूपपुर, कोतमा, जैतहरी तथा पुष्पराजगढ़ में वीडियो कांफ्रेंसिंग कक्ष बनाए गए हैं।
इस व्यवस्था से लगभग 20 हजार अधिकारियों व कर्मचारियों से सम्पर्क किया गया। इससे समय और पैसे की बचत हुई। वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए सर्व शिक्षा अभियान, स्कूल चलें हम योजनाओं व स्वास्थ्य, पंचायत, पशुपालन, कृषि सहित अन्य विभागों के कर्मचारियों को प्रशिक्षण भी दिया गया। प्रदेश के मुख्यसचिव अवनि वैश्य ने अनूपपुर के जिलाधिकारी रवींद्र कियावत के इन प्रयासों की सराहना की है।
जिला प्रशासन की ओर से दावा किया गया है कि इस व्यवस्था को लागू करने से गत वर्ष में लगभग 20 करोड़ रुपये की बचत हुई।

Date: 28-03-2011 Time: 16:19:23

सड़क पर प्रसव की मजिस्ट्रेट जांच होगी

सड़क पर प्रसव की मजिस्ट्रेट जांच होगी
भोपाल, 29 मार्च 2011। मध्य प्रदेश के विदिशा जिले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सहित अन्य विशिष्टजनों के निकल रहे काफिले की सुरक्षा के मद्देनजर मार्ग पर आवागमन रोके जाने से एक युवती ने सड़क पर ही बच्चे को जन्म दे दिया। इस मामले की मुख्यमंत्री चौहान ने मजिस्ट्रेट जांच कराने के आदेश दिए हैं।
मालूम हो कि शनिवार को विदिशा में अंत्योदय मेले का आयोजन किया गया था। इस मेला में मुख्यमंत्री चौहान सहित लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष सुषमा स्वराज ने हिस्सा लिया था। विशिष्टजनों का काफिला नीमताल चौराहे से गुजर रहा था, तब पुलिस जवानों ने सड़क पर आवागमन पूरी तरह बंद कर दिया। रोके गए वाहनों में गर्भवती कांशीबाई का ऑटो भी था। कांशीबाई रायसेन जिले के एक गांव से अपनी सास के साथ प्रसव कराने अस्पताल जा रही थी।

अंडे का ठेला लगाने वाले 14 वर्षीय शाहबाज ने तोड़ा वर्ल्ड रिकॉर्ड

अंडे का ठेला लगाने वाले 14 वर्षीय शाहबाज ने तोड़ा वर्ल्ड रिकॉर्ड
अंडे का ठेला लगाने वाले 14 वर्षीय शाहबाज ने तोड़ा वर्ल्ड रिकॉर्ड
भोपाल 26 मार्च 2011। प्रतिभा उम्र और साधन की मोहताज नहीं होती। यह बात भोपाल रंगमहल टॉकीज पर अंडे का ठेला लगाने वाले 14 वर्षीय शाहबाज खान पर सटीक बैठती है।
भोपाल के शाहबाज ने ऑमलेट को फ्लिप करने के वर्ल्ड रिकॉर्ड को तोड़ते हुए नया कीर्तिमान बनाते हुए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज करा दिया।
शाहबाज ने मुंबई में प्रीटी जिंटा और गिनीज बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉर्ड की टीम के सामने इस कला का प्रदर्शन किया। शाहबाज ने एक मिनट में 60 बार फ्लिप करने के यूके के रिकॉर्ड को तोड़ते हुए 103 बार आमलेट फ्लिप किया।

Saturday, March 26, 2011

भोपाल के प्रतिष्ठित कालेज में छात्राओं द्वारा अश्लीलता का खुला प्रदर्श्रन

youtube link:
http://www.youtube.com/watch?v=gJVA8W_DzNo&oref=http%3A%2F%2Fwww.youtube.com%2Fresults%3Fsearch_query%3Dbansal%2Bcollege%2Bbhopal%26aq%3D0&has_verified=1

भोपाल के प्रतिष्ठित कालेज में छात्राओं द्वारा अश्लीलता का खुला प्रदर्श्रन

भोपाल के प्रतिष्ठित कालेज में छात्राओं द्वारा अश्लीलता का खुला प्रदर्श्रन
राजेन्द्र कश्यप भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में हाई सेक्स प्रोफाईल रेकेट आने के बाद राज्य शासन, पुलिस और सायबर सेले सर्तक हो गया है। सेंकड़ों कालेज और गर्ल्स होस्टल खुल गये हैं। जिनमें देश के उन्य प्रान्तों के छात्र-छात्राएं हजारों की संख्या में भोपाल के कालेजों में पढ़ रहे हैं।
शासकीय रिपोर्ट के अनुसार भोपाल के अपराधों की संख्या बढ़ती जा रही है। युवा वर्ग में स्वच्छन्दता भी बढ़ रही है। माता-पिता के नियन्त्रण से दूर रहकर कुछ युवतियां स्वच्छन्द व अश्लीलता का आचरण कर रही हैं, जो एक दिन उनके लिये नुकसान का कारण बन सकता है।
इसी कड़ी में भोपाल की छात्राओं का एक अश्लील वीडियों भी लोकप्रिय हो रहा है, यूटीयूब पर इस वीडियों को अभी तक 15 हजार से अधिक लोग इसे देख चुके है। इस वीडियों में भोपाल के प्रतिष्ठित कालेज की कुछ लड़कियों ने आपस में ही एक वीडियो में अश्लील हरकते करते हुए शूट कराया ओर ‘‘यू टृयूब’’ पर अकाउंट, पर डाल दिया, किस ने यह वीडियों अपलोड़ किया ? कौन से कालेज की छात्राऐं और कौन है यह छात्राऐं ? किस ने किया यह साईबर अपराध ? कौन बताऐगा ? क्या इन सवालों को टालते रहना सही है और इसे सामान्य बात कहना सही है क्या यहा साईबर अपराध नहीं हुआ ? इस तरह अश्लील हरकतों से समाज पर प्रभाव अच्छा नहीं पड़ता और माता-पिता का चिन्तित होना स्वाभाविक है।
‘‘प्रतिवाद’’ इस प्रदेश की एक प्रतिष्ठित वेबसाईट है। स्वच्छ विचार, स्वच्छ पत्रकारिता ओर निर्भयता पूर्वक सामाजिक साकारों से संबंध रखते हुए अपने पवित्र लक्ष्य की ओर अग्रसर हो रही है। युवा वर्ग में उज्जवल भविष्य में अश्लीलता एक अभिशाप है, जो कि प्रगति में रोड़ा है। यह विडियो दिखाने का उद्देश्य जागरूक होतो और सर्तक होने की चेतावनी देना मात्र है।
राजेन्द्र कश्यप संपर्कः 9753041701
youtube link:
http://www.youtube.com/watch?v=gJVA8W_DzNo&oref=http%3A%2F%2Fwww.youtube.com%2Fresults%3Fsearch_query%3Dbansal%2Bcollege%2Bbhopal%26aq%3D0&has_verified=1

Sunday, March 20, 2011

मीडिय़ा कर्मी भी मनायेंगे सूखी होली

मीडिय़ा कर्मी भी मनायेंगे सूखी होली
भोपाल 20 मार्च 2011। भोपाल की राजधानी के प्रिन्ट भी उच्च तथा इलेक्ट्रानिक मीडियां से जुडे मीडियां कर्मियों की तिलक होली के आयोजन की जोरदार तैयार प्रारंभ हुई।
आज तैयारी समिति की बैठक का आयोजन किया गया जिसमें विशेष रूप से वरिष्ठ पत्रकार भी उपस्थिति भी उल्लेखनीय रही। आयोजन आगामी 23 मार्च को शाम 6 बजे होगा जिसमें सभी पत्रकार और जनसम्पर्क से जुड़ी है बुध्दिजीवी और राजधानी की सम्मानित विभूतियों को आमंत्रित किया जा रहा है ।
आयोजन की पंच लाईन 'हंसी ठिठौली भाईचारा है जहां एक दूसरे के गले मिलकर लोग रंगपर्व के अवसर पर आपस में गले लगेगे।
कार्यक्रम आयोजन समिति में रामगोपाल शर्मा सतीश सक्सेना, राधेश्याम अग्रवाल अख्तर अली, मो.परवेज, विनोद शुक्ला, अमरान खान, अशोक मालवीय, मुईन उधीन, राधेश्याम सोमानी, जवाहर सिंह, संजय प्रकाश शर्मा, प्रेमनारायण प्रेमी, दिनेश राठौर,,सलीम खादीवाला, दिनेश सेगर,, राघेश्याम अग्रवाल शामिल किये गये हैं। यह आयोजन अखिल भारतीय श्रमजीवी पत्रकार महासंघ यानी आईएफडब्ल्युजे की मध्यप्रदेश इकाई द्वारा किया जा रहा है। आयोजन में सभी पत्रकार संगठनों के सदस्यों को सहर्ष आने का आव्हान किया गया है।

चोरों का अड्डा बना भोपाल स्टेशन


भोपाल। राजधानी का मुख्य रेलवे स्टेशन चोरों का अड्ïडा बन गया है। नजर हटते ही चोर यहां से यात्रियों का माल उड़ा देते हैं। खास बात यह है कि रेलवे स्टेशन पर जीआरपी पुलिस की तैनाती 24 घंटे रहती है। इसके बावजूद यात्रियों के सामान की चोरी और छीनकर भागने की वारदातें लगातार हो रही है। जीआरपी पुलिस की सुस्ती का अंदाजा इससे लग सकता है कि पूछताछ खिड़की से नर्मदा बचाओ आंदोलन की नेता मेधा पाटकर का पर्स चोरी चला गया। जबकि इसकी जानकारी जीआरपी टीआई राजेंद्र रघुवंशी को नहीं थी। ये सब उस दिन हुआ जब रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष भोपाल में थे। बीते पांच सालों में जीआरपी की हद में चोरी, लूट और जहरखुरानी जैसी वारदातों में यात्रियों का करीब पांच करोड़ रुपए का माल चला गया। वहीं संपत्ति की रिकवरी औसतन मात्र 20 प्रतिशत होती है।

यह चोरों के स्थान

टिकट विंडों, पूछताछ खिड़की, रिटायरनिंग रूम, ट्रेन के सेकंड और थर्ड एसी कोच, आराम के लिए लगाई गईं कुर्सियों, भीड़ भाड़ वाले स्थान पर चोर सक्रिय रहते हैं। वे नजर रखकर माल पर हाथ साफ कर देते हैं। सूत्रों की मानें तो जीआरपी पुलिस चोरों को पहचानती है, लेकिन कार्रवाई नहीं करती है।

पुलिस की तैनाती

रेलवे स्टेशन के एक प्लेटफार्म पर एक एसआई और एक एएसआई की तैनाती होती है। इस प्रकार पांचों प्लेटफार्म पर जीआरपी के कुल एक दर्जन बल की तैनाती होती है। वहीं आरपीएफ के दो शिफ्टों में करीब दस से अधिक जवान होते हैं।

अब ई टिकट एजेंट नहीं बना पाएंगेतत्काल टिकट

भोपाल। ई टिकट एजेंट अब सुबह आठ से नौ बजे के बीच तत्काल कोटे का टिकट नहीं बना पाएंगे। अगर ऐसा करते पाए गए, तो उन सख्त कार्रवाई की जाएगी। ऐसा ऑन लाइन शपथ पत्र ई टिकट एजेंटों को भरना पड़ रहा है। दरअसल 30 मार्च को सैकड़ों शिकायतों के चलते देशभर के एजेंटों की आईडी सस्पेंड कर दी गई थी। जिसके चलते लोगों के टिकट नहीं बन रहे थे।

हाल ही में दिल्ली में हुई आपात बैठक में इंडियन रेलवे केटरिंग एवं टूरिज्म कार्पोरेशन ने शपथ पत्र भरवाकर एजेंटों की आईडी चालू कर दी है। वहीं गलत टिकट बनाने की जांच होने पर राजधानी के करीब 30 से 35 ई टिकट एजेंटों को ब्लैक लिस्टेड कर दिया है। भोपाल में करीब 300 से 400 ई टिकट एजेंट कार्यरत है।

अनवांटेड-72 व एनपी टिल पर लगा प्रतिबंध


भोपाल। गर्भपात के लिए उपयोग में लाई जाने वाली दो दवाओं एनपी-टिल व अनवांटेड -72 को प्रतिबंधित कर दिया है। इन दवाओं से अधिक ब्लीडिंग होना व स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होना बताया गया है। यह प्रतिबंध कलेक्टर निकुंज कुमार श्रीवास्तव ने शुक्रवार को प्रसव पूर्व निदान सलाहकार समिति की बैठक में लगाया। साथ ही उन्होंने गर्भपात कराने वाली दवा मेडिकल स्टोर संचालक द्वारा आम नागरिकों को बिना अधिकृत डॉक्टर के पर्चे के उपलब्ध न कराने तथा बेचते हुए पाए जाने पर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

कलेक्ट्रेट कार्यालय के सभागृह में सुबह 11 बजे आयोजित इस बैठक में कलेक्टर श्री श्रीवास्तव ने समिति अधिकारियों से गर्भपात की दवाओं के साधारणत: बिकने पर तत्काल रोक लगाने को कहा। उन्होंने जिले में संचालित सोनोग्राफी केंद्रों का पीएनडीटी सलाहकार समिति द्वारा आकस्मिक निरीक्षण करने, रिकार्ड में कमी पाने पर कारण बताओंनोटिस देने व लिंग परीक्षण की शिकायत मिलने पर उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के आदेश दिए हैं। बैठक में सीएमएचओ पंकज शुक्ल, अधीक्षक जेपी अस्पताल डॉ वीणा सिन्हा, डॉ हजेला, डॉ लूनावत आदि शामिल थे।

चलित सोनोग्राफी सेंटर का आवेदन किया अमान्य

बैठक में पीएनडीटी एक्ट के तहत पांच सोनोग्राफी सेंटर्स का पंजीयन व पांच केंद्रों का नवीनीकरण किया गया। नए सोनोग्राफी सेंटरों के लिए स्वस्तिक हास्पिटल पटेल नगर, सुभि डायग्नोस्टिक, ओम हास्पिटल एण्ड रिसर्च सेंटर, नवजीवन डायग्नोस्टिक सेंटर अरविंद विहार, समयक अल्ट्रासाउड क्लिनिक गोविंदगार्डन का पंजीयन किया गया है। वहीं आरके स्कैन सेंटर इंद्रपुरी द्वारा चलित प्रयोगशाला की अनुमति का आवेदन अमान्य कर दिया गया है।

होली के हुड़दंग में नॉर्थ-ईस्ट की लड़की से छेड़खानी


॥ नई दिल्ली 2omarch2011
होली के मद्देनजर पुलिस की सख्ती और रंगीन पानी से भरे गुब्बारे फेंकने पर पाबंदी लगाने के बावजूद हुड़दंग मचानेवाले बाज नहीं आ रहे हैं। ताजा मामला साउथ दिल्ली के कोटला मुबारकपुर इलाके का है। यहां होली के नाम पर नॉर्थ ईस्ट की एक लड़की से छेड़खानी और बदसलूकी का मामला सामने आया है। लड़की की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज करके आरोपी को धर दबोचा है। आरोपी नाबालिग है और स्कूल में पढ़ता है। हालांकि लड़की ने अपनी शिकायत में एक से ज्यादा लड़कों का जिक्र किया था , लेकिन पुलिस का कहना है कि लड़की से बदसलूकी सिर्फ नाबालिग लड़के ने ही की थी।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक , कोटला मुबारकपुर के वजीर नगर इलाके में रहने वाली 25-26 साल की एक मणिपुरी युवती प्राइवेट कंपनी में जॉब करती है। रात 8:30 बजे के करीब जब वह ऑफिस से घर लौट रही थी , तभी रास्ते में किसी ने उस पर रंगीन पानी से भरा गुब्बारा फेंक दिया। युवती ने जब इसका विरोध किया , तो गुब्बारे फेंकने वाला 16-17 साल का एक लड़का उससे बदसलूकी करने लगा। युवती ने उससे कहा कि वह पुलिस में शिकायत कर देगी। इसके बाद भी जब लड़का नहीं माना , तो युवती अपने मोबाइल से उसके फोटो खींचने लगी। यह देखकर लड़का युवती के नजदीक आया और उससे मोबाइल छीनने की कोशिश करने लगा। युवती का आरोप है कि उसी दौरान लड़के ने उसे एक थप्पड़ भी जड़ दिया।

घटना के बाद लड़का और उसके साथी मौके से फरार हो गए। रात 08:45 पर लड़की ने पुलिस कॉल की और जब पुलिस मौके पर पहुंची तो सारी घटना बताई। बाद में कोटला मुबारकपुर थाने में जाकर लड़की ने लिखित शिकायत दी , जिसके आधार पर पुलिस ने केस दर्ज कर लिया। बाद में पुलिस ने आरोपी नाबालिग लड़के को भी धर दबोचा। पुलिस का कहना है कि उसके खिलाफ जूवनाइल जस्टिस ऐक्ट के अनुसार कार्रवाई की जाएगी। गौरतलब है कि गुरुवार को डीयू के नॉर्थ कैंपस में भी कुछ लड़कों ने डीयू की ही एक महिला टीचर के ऊपर बालकनी से रंगीन पानी भरा गुब्बारा फेंका था और टीचर के विरोध करने पर उनके साथ गाली गलौज और बदसलूकी की थी। बाद में टीचर की शिकायत पर मुखर्जी नगर थाने में केस दर्ज करके पुलिस ने 6 आरोपियों को गिरफ्तार भी किया था। वे सभी डीयू स्टूडेंट्स थे।

वरिष्ठ पत्रकार आलोक तोमर नहीं रहे

Mar 20, 06:03 pmबताएं
Twitter Delicious Facebook नई दिल्ली। वरिष्ठ पत्रकार आलोक तोमर का रविवार को लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। वह पचास वर्ष के थे।

दिल्ली के बत्रा अस्पताल में भर्ती तोमर का रविवार को सुबह ग्यारह बजकर दस मिनट पर निधन हो गया। वह गले के कैंसर से पीड़ित थे। उनके परिवार में पत्नी और एक बेटी है।

उनका पार्थिव शरीर चितरंजन पार्क स्थित आवास पर रखा गया है। उनका अंतिम संस्कार सोमवार को दस बजे लोदी रोड स्थित शवदाह गृह में किया जाएगा।

प्रिंट और इलेक्ट्रानिक मीडिया से जुड़े तोमर ने अपराध और सामाजिक सरोकार के मुद्दों से जुड़ी पत्रकारिता में अपना विशेष स्थान बनाया।

मध्यप्रदेश के मुरैना जिले में 1960 में जन्मे तोमर ने हिंदी पत्रकारिता में अपनी रिपोर्टिग के जरिए भाषा को नए तेवर दिए। उन्होंने वर्ष 1984 के सिख विरोधी दंगे की मानवीय रिपोर्टिग की। प्रिंट मीडिया से करियर की शुरूआत करने वाले तोमर जनसत्ता अखबार से बुलंदियों पर पहुंचे।

वह समाचार एजेंसी वार्ता, जनसत्ता अखबार और सीएनईबी समाचार चैनल से जुड़े थे। वेब पत्रकारिता के माध्यम से भी वह सामाजिक सरोकार के मुद्दों को उठाते रहे

मेट्रो सर्वे के लिये 2 मार्च को इंदौर पहुँचेगा दल

मेट्रो सर्वे के लिये 2 मार्च को इंदौर पहुँचेगा दल


Bhopal: Saturday, March 19, 2011:

--------------------------------------------------------------------------------


इंदौर में मेट्रो रेल के प्री-फिजिबिलिटी सर्वे के लिये दिल्ली मेट्रो रेल कार्पोरेशन का दो सदस्यीय दल 21 मार्च की शाम इंदौर पहुँचेगा। उक्त दल में डी एम आर.सी. के कार्यकारी निदेशक (सिविल) श्री एस.डी. शर्मा तथा श्री मुखोपाध्याय शामिल है। उक्त दल 22 तथा 23 मार्च को इंदौर में मेट्रो रेल के लिये प्री-फिजिबिलिटी सर्वे करने के पश्चात दिल्ली लौट जाएगा। नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री श्री बाबूलाल गौर भी 23 मार्च को इंदौर पहुँच रहे हैं। वे उक्त अधिकारियों से प्री-फिजिबिलिटी सर्वे के संबंध में चर्चा करेंगे।






--------------------------------------------------------------------------------

भगौरिया उत्सव देखकर भाव-विभोर हुए पर्यटक

भगौरिया उत्सव देखकर भाव-विभोर हुए पर्यटक

सैलानियों को रिझाने के लिये पर्यटन विकास निगम की अनूठी पहल
Bhopal: Saturday, March 19, 2011:

--------------------------------------------------------------------------------


मध्यप्रदेश के झाबुआ-अलीराजपुर क्षेत्र में भील-भिलाला जनजातियों के विश्वप्रसिद्ध भगौरिया उत्सव को देखकर देश भर से आये पर्यटक भाव-विभोर हो गये। विगत 12 से 18 मार्च तक आयोजित इस अद्भुत उत्सव को देखने के लिये मध्यप्रदेश राज्य पर्यटन विकास निगम ने इन सैलानियों को विशेष रूप से बुलाया था। इन सैलानियों में मीडिया प्रतिनिधि, पत्रकार और ट्रेवल एजेंट भी शामिल थे। इनके लिये अलीराजपुर जिले के ग्राम उमरठ में एक आधुनिक सुविधाओं से युक्त विशाल कैम्प भी लगाया
गया था।

उल्लेखनीय है कि भगौरिया उत्सव मध्यप्रदेश के पश्चिमी निमाड़ क्षेत्र में तथा राजस्थान एवं गुजरात की सीमा से लगे गांव-देहातों में तीनों संस्कृतियों के रीति-रिवाज के समावेश के बीच आदिवासी भील, भिलाला जाति के युवक-युवतियों द्वारा होली से पूर्व उत्सव मनाया जाता है। झाबुआ एवं अलीराजपुर जिलों में हाट-बाजार के दिन समस्त ग्राम एवं कस्बों में यह उत्सव मनाया जाता है। इसमें मस्ती से ढोल, बाँसुरी बजाते हुए आदिवासी युवक-युवतियां पूरे उमंग-उल्लास में एक-दूसरे को रंग-गुलाल लगाते हैं। कहीं ये लोग देवी-देवताओं की पालकियां सिर पर उठाये थिरकते रहते हैं तो कहीं वे एक-दूसरे पर टेसू के फूलों से बना रंग फेंकते हैं।

भगौरिया उत्सव में देश के अतिथि आमंत्रित

भगौरिया उत्सव को जन-सामान्य एवं देश-विदेश में परिचित कराने एवं पर्यटकों को रिझाने के लिये मध्यप्रदेश राज्य पर्यटन निगम द्वारा इस वर्ष भागीरथी प्रयास किया गया। इसमें पर्यटन निगम द्वारा एक सप्ताह तक चलने वाले भगौरिया उत्सव में देश के प्रमुख शहरों से पत्रकारों, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के रिपोर्टरों एवं ट्रेवल एजेंट्स को 20 से 25 के दो ग्रुपों में आमंत्रित किया। पहला ग्रुप पहले तीन रात चार दिन ठहरा और दूसरा ग्रुप अगले तीन रात चार दिन ठहरा। इनके लिये अलीराजपुर जिले में सोण्डवा ब्लॉक के ग्राम उमरठ में एक विशाल कैम्प लगाया गया, जिसमें अत्याधुनिक स्विस टेन्ट लगाकर ठहरने, खानपान एवं भ्रमण की व्यवस्था की गई।

प्रबंध निदेशक मध्यप्रदेश राज्य पर्यटन निगम श्री हरिरंजन राव व्यवस्थाओं के सुचारु संचालन के लिये कैम्प के दौरान प्रथम दो दिन मौजूद रहे। पहले ग्रुप को एक दिन ग्राम छतकला, ब्लाक सोण्डवा ले जाकर भगौरिया हाट उत्सव से रूबरू कराया गया। कैम्प में भाग लेने वाले अतिथियों ने वहां मेले का भरपूर आनंद उठाया। अगले दिन उन्हें जिला धार की विश्वप्रसिद्ध बाघ गुफाएं एवं संग्रहालय का अवलोकन कराया गया। वहां के अप्रतिम सौंदर्य को देखकर सभी अतिथि भाव-विभोर हो उठे। इसी प्रकार दूसरे ग्रुप के अतिथियों को एक दिन बाघ गुफाएं और दूसरे दिन सोण्डवा का भगौरिया हाट बाजार दिखाया गया।

आदिवासी युवकों को प्रशिक्षण

कैम्प में कर्मचारियों के रूप में कार्य करने के लिये सोण्डवा ब्लॉक के अंतर्गत सेकड़ा गांव के आठ आदिवासी युवकों को एक माह तक मध्यप्रदेश पर्यटन निगम के झाबुआ स्थित होटल में प्रशिक्षण देकर कार्य पर रखा गया। इसे स्थानीय लोगों ने सराहा। इस पूरे आयोजन का मध्यप्रदेश राज्य पर्यटन विकास निगम द्वारा फिल्मांकन भी कराया गया, जिसे विभिन्न अवसरों पर देश-विदेश के लोगों को दिखाया जायेगा। इससे प्रदेश में पर्यटकों के आगमन में वृद्धि होगी।

Thursday, March 17, 2011

विकिलीक्स के गुरुवार को एक खुलासे के बाद भारतीय राजनीति में नया तूफान खड़ा हो गया है।

नई दिल्ली. विकिलीक्स के गुरुवार को एक खुलासे के बाद भारतीय राजनीति में नया तूफान खड़ा हो गया है। 2008 के भारत-अमेरिका के बीच परमाणु समझौते के मुद्दे पर हुए विश्वास मत से करीब पांच दिनों पहले कांग्रेस नेता कैप्टन सतीश शर्मा का एक करीबी नचिकेता कपूर अमेरिकी दूतावास के एक कर्मचारी से मिला था और उसने रुपयों से भरे दो बक्से दिखाए थे। शर्मा के साथी ने दूतावास कर्मी से कहा था कि कांग्रेस करीब 50 से 60 करोड़ रुपये का फंड इकट्ठा कर रही है ताकि सांसदों का समर्थन खरीदा जा सके। कपूर ने दूतावास कर्मी से कहा था की राष्ट्रीय लोकदल के चार सांसदों को दस करोड़ रुपये की रकम दी जा चुकी है। हालांकि, यूपीए के लिए वोट न करने वाले राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष अजीत सिंह ने इस दावे को गलत करार दिया है।

अजीत सिंह का कहना है कि उस समय आरएलडी में सिर्फ तीन सांसद थे। अजीत सिंह ने कहा, 'मेरी पार्टी में तीन सांसद हैं, इसलिए विकीलीक्स में सामने आए तथ्य गलत हैं। मैंने बहुत पहले ही तय कर लिया था कि मैं लेफ्ट के साथ हूं और यूपीए के लिए वोट नहीं करूंगा। इसलिए पैसे के लेनदेन का सवाल ही नहीं उठता है। स्टैंड बदलने के लिए मुझ पर किसी तरह का दबाव नहीं था।'

17 जुलाई, 2008 को अमेरिकी विदेश मंत्रालय को भेजे गए गोपनीय दस्तावेज में भारत में मौजूद अमेरिकी दूतावास के अधिकारी स्टीवन वाइट ने सतीश शर्मा के बारे में जिक्र करते हुए लिखा, 'पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के बहुत करीबी सहयोगी रहे सतीश शर्मा सोनिया गांधी के पारिवारिक मित्र भी हैं।' जब विश्वास मत पर वोटिंग में सिर्फ 5 दिन रह गए थे तो कांग्रेस के नेता सतीश शर्मा के सहायक नचिकेता कपूर वोटिंग में कुछ सांसदों को अपने पक्ष में करने के लिए भारी फंड की व्यवस्था में लगे थे। गोपनीय दस्तावेज के मुताबिक, सतीश शर्मा ने अमेरिकी राजनयिक से बातचीत में कहा था कि वह और कांग्रेस के अन्य नेता 22 जुलाई, 2008 को होने वाले विश्वास मत को जीतने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं। शर्मा ने कहा था कि वह और पार्टी के दूसरे नेता 22 जुलाई को विश्वास मत में सरकार की जीत के लिए 'काम' कर रहे हैं।

राजनयिक ने सतीश शर्मा ने कहा था कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और दूसरे लोग अमेरिकी फाइनेंसर संत चटवाल के जरिए अकाली दल के 8 वोट अपने पाले में लाने की कोशिश कर रहे थे, पर सफल नहीं हुए। शर्मा के मुताबकि, मनमोहन सिंह, सोनिया गांधी और राहुल गांधी न्यूक्लियर डील के पक्ष में हैं और उन्होंने पार्टी के सभी नेताओं से यह बात स्पष्ट कर दी है। गांधी परिवार के करीबी नेता ने यह भी कहा था कि बीजेपी में फूट डालने के लिए उन्होंने अटल बिहारी वाजपेयी के दामाद रंजन भट्टाचार्य को बीजेपी सांसदों से बात करने को कहा था।

नचिकेता कपूर ने अमेरिकी दूतावास कर्मी से कहा था कि पैसा मायने नहीं रखता है बल्कि सांसद सही तरीके से वोट डालें, इसे सुनिश्चित करना ज़्यादा अहम है। इस खुलासे में भारतीय जनता पार्टी को भी परेशान करने वाले तथ्य हैं। सतीश शर्मा ने अमेरिकी दूतावास कर्मी से बातचीत में यह भी कहा था कि वह कोशिश कर रहे हैं कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के दामाद रंजन भट्टाचार्य से बीजेपी नेताओं से बात करवाने की कोशिश कर रहे हैं ताकि बीजेपी सांसदों में तोड़फोड़ की जा सके।

22 जुलाई, 2008 को भारतीय जनता पार्टी के तीन सांसदों-अशोक अरगल, फग्गन सिंह कुलस्ते और महावीर सिंह भगोरा ने लोकसभा में नोटें लहराकर सनसनी मचा दी थी। इन सांसदों ने अमर सिंह और अहमद पटेल पर आरोप लगाया था कि उन्हें वोटिंग के दौरान सदन से नदारद रहने के लिए पैसे देने की पेशकश की थी। गौरतलब है कि 22 जुलाई, 2008 को लोकसभा में परमाणु करार के मुद्दे पर हुए मतदान में 275 सांसदों ने यूपीए के पक्ष में वोट दिया था, जबकि 256 सदस्यों ने इसके खिलाफ मतदान किया था।

विकीलीक्स के ताजा खुलासे के बाद मुख्य विपक्षी पार्टी बीजेपी और लेफ्ट पार्टियों ने संसद में इस मुद्दे पर सरकार से जवाब मांगा है। इन पार्टियों ने कहा है कि प्रधानमंत्री को खुद इस मामले में सफाई देनी चाहिए। भाजपा के वरिष्‍ठ नेता लाल कृष्‍ण आडवाणी ने कहा है कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को नैतिक आधार पर अपने पद से इस्‍तीफा दे देना चाहिए। विकिलीक्स के खुलासे के बाद शिवसेना ने कहा है कि उसके सांसदों को भी यूपीए सरकार के ' मैनेजरों ' ने ऐसा ही ऑफर दिया था। पार्टी के नेता संजय राउत ने कहा कि हमारे सांसद पार्टी के प्रति वफादार हैं, इसलिए उन्होंने ऑफर ठुकरा दिया था।

नई दिल्‍ली स्थित अमेरिकी दूतावास ने विकीलीक्‍स के ताजा खुलासों के बारे में किसी तरह की टिप्‍पणी करने से इनकार किया है। दूतावास के प्रवक्‍ता ने कहा, ‘विकीलीक्‍स की ओर से मीडिया को मुहैया कराए गए किसी भी दस्‍तावेज की प्रामाणिकता के बारे में हम कुछ नहीं कह सकते हैं।’

Wednesday, March 16, 2011

भोपाल में हाई प्रोफाईल सेक्स रेकेट का भन्डाफोड़


भोपाल में हाई प्रोफाईल सेक्स रेकेट का भन्डाफोड़
(राजेन्द्र सिंह कश्यप)
भोपाल अंतर्राष्ट्रीय नक्शे में एक प्रसिद्ध नाम है । यहां लिट्टे के द्वारा संचालित कारखाने मिलते हैं वहीं दाऊद ईब्राहीम जैसे अंतराष्ट्रीय अपराधी के ग्रुगों की शरण स्थली भी है। लश्करे तौयेबा से संबंधित सिम्मी के केन्द्र के रूप में इसे जाना जाता है। और अब यह हाई प्रोफाईल सेक्स रेकेट के सदस्य के भोपाल में क्राईम ब्रांच द्वारा गिफ्तारी, दिल्ली की काल गर्ल्स के पकडाने से साफ हो गया है की भोपाल के जिस्म फरोशी का कारोबार हाई प्रोफाईल ढंग से आ रहा है। दिल्ली बम्बई कलकत्ता और मद्रास की तरह भोपाल भी अब गरम गोश्त के सोदागरों का केन्द्र बनता जा रहा है। गत वर्षों से भोपाल के खोजी पत्रकारों को संकेत मिल रहे थे कि दिल्ली, मुबंई की कालगर्ल्स का भोपाल में आना जारी हो गया है। दो नंबरी अमीर अय्याश व्यापारी, रिश्व तखोर बेलगाम भ्रष्ट अधिकारीगण बिल्डर्स और ठेकेदारों को चारा के रूप में कालर्गल्स सप्लाई की जा रही है। पिछले 10 वर्षों से भोपाल में प्रदेश की विभिन्न विकास योजनाओं के निर्माण कार्यों के ठेके भारत की विभिन्न कंपनीयों को दिये जाते रहें हें। मध्यप्रदेश के भ्रष्ट राजनेताओं अधिकारियों की मिलीभगत से भ्रष्टाचार की बेल फल-फूल रही है। शराब, शवाब, और कवाब के साथ प्रदेश के बडे होटलों में कालेधन के सोदागर अपने सोदों को पक्का कर रहें हैं । जिस्मफरोशी का धन्धा भी अब हाईटेक रूप से चलाये जा रहा है और अनेक पोर्टल पर विज्ञापन देकर ग्राहक बंटोरे जाते हैं। भोपाल में एक तीन सितारा होटल में पकड़ाई सिमरन नाम (कल्पित नाम) की कालगर्ल का विज्ञापन एक एयर होस्टेस के रूप में दिया जा रहा था। इस रेकैट का समचार ’’प्रतिवाद’’ डॉट कॉम न्यूज बेवसाईट ने दिया, ’’प्रतिवाद’’ न्यूज वेबसाईट के रूप में गत 6 वर्षों से कार्य कर रही है। जब इस के संपादक को सूचना मिलने पर उन्होनें अपनी साइट द्वारा इस काल गर्ल्स व इस रेकेट का इस समाचार को प्रसारित किया और मीडिया के लोगों को जानकारी लग गई, जानकारी मिलने पर पत्रकारों ने पुलिस को सुचित किया और दीपक शर्मा और भरत पमनानी के साथ क्राईम ब्रांच ने होटल पर स्टिंग आपरेशन कर छापा मार कर सिमरन को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने सफल छापामार कर्रवाई को अंजाम दिया दिया। पुलिस ने हाई प्रोफाईल सेक्स रेकेट का एक मोहरा को गिरफ्तार कर लिया यह कालगर्ल इन्दौर में दिन एक होटल में रही और 10 तारीख को भोपाल सुबह ही पहुंची थी। दिल्ली की एक साधारण परिवार की युवती देह व्यापार के लिये इन्दौर से पूर्व अन्य बड़े शहरों में भी जा चुकी है। देह व्यापार का एक बहुत बड़ा रेकैट जो बेबसाइट के माध्यम से ग्राहक तलाशता है हर क्षेत्रों को लड़कियां सप्लाई करता है। 10 मार्च को रात्रि को दीपक शर्मा और भरत पमनानी जब महिला थाना के परिसर में थे उसी समय सेक्स रेकेट का सप्लायई गुप्ता को पत्रकार को जान से मारने की धमकी दी, जिसकी सूचना पत्रकारों को मिलने पर उनहोंने रात 12 ही एमपी नगर थाने में इस की शिकायत दर्ज करवा दी थी इस के बाद मध्यप्रदेश के गृहमंत्री उमाशंकर गुप्ता को उनके निवास पर जाकर दी। सेक्स रेकेट की धमकी के बावजूद पत्रकारों की जान की सुरक्षा नहीं की जा रही है। पुलिस को युवती ने बताया कि इन्दौर से डेढ़ लाख रूपये कमाकर भोपाल लाई थी और 1.50 लाख रूपये उसने अपने दलाल के अकाउन्ट में जमा कर दिये । पचास हजार रूपये क्राइम ब्रांच ने उसके पास से नगद बरामद किये हैं। महिला थाना पुलिस ने शुक्रवार 11 मार्च को युवती को जिला अदालत में पेश किया। विवेक गौर एस.डी.ओ. ने पुलिस की ओर से पेरवी करते हुए दो दिन के रिमान्ड की मांग की जो उसे प्राप्त हे गई। क्राईम ब्रांच की ए.एस.पी मोनिका शुक्ला की पूछताछ में युवती ने अपने एजेन्ट का नाम विनोद गुप्ता बताया है, जो दिलली रेकेट का मुखिया है। अभी तक यह जानकारी नहीं मिली है कि इन्दौर से कालगर्ल किसके माध्यम से भोपाल आई थी और इन्दौर में कहां ठहरी थी। युवती के पास जो मोबाईल जप्त किया है उसमें कई बड़े रसूखदारों हस्तियों के नम्बर मिले हैं। युवती ने इन ग्राहकों के नम्बर गुप्त कोड में सेव किये हैं। दिल्ली से संचालित इस रेकेट की सदस्य से इस व्यापार से जुड़ी एक पोर्टल में सिमरन नाम से जुड़ी हुई है। ’’प्रतिवाद’’ द्वारा जब इस पोर्टल की जानकारी पत्रकारों को मिली तो उन्होने पुलिस को सूचित किया था। सेक्स व्यापार से जुड़ें युवती ने पुलिस को बताया है कि सेक्स रेकेट से जुड़ी पोर्टल का दावा है कि उनके नेटवर्क में 15000 हजार लड़कियां शामिल हैं। जिस पोर्टेल के माध्यम से इस धन्धे में आयी है उसका नेटवर्क इस देश में ही नहीं बल्कि विदेशें में भी है। यह सेक्स रेकेट दुनिया भर में फेला हुआ है। भोपाल और दिल्ली की पुलिस भी पोर्टेल की डीटेल्स हासिल कर इसके संचालकों की तलाश शुरू कर रही हैं। दिल्ली पुलिस भी इस गिरोह की तलाश करने में लग गयी है। भोपाल की पुलिस ने राजस्थान, अहमदाबाद में अपनी टीमें भेजी हैं। पुलिस सुधांषु गुप्ता को लताश कर रही है। जिसने इस युवती को भोपाल भेजा था। सुधांषु गुप्ता को ने अपना मोबाईल बन्द कर लिया है। हाई प्रोफाईल युवती सिमरन दिल्ली की रहने वाली है। 12 वीं पास यह युवती एक बेरोजगार परिवार से जुड़ी है। उसके माता-पिता बेरोजगार हैं। परिवार के भरा-पोषण के लिए वह इस काम से जुड़ी है। इस सेक्स रेकेट का मुखिया कौन है, क्या विनोद गुप्ता को किसके संरक्षण से यह अन्तर्राष्ट्रीय सेक्स व्यापार चला रहा है मध्य प्रदेश में इसके कौन सहयोगी हैं, भोपाल इन्दौर में इससे पहले कितनी काल गर्लस भेजी गई थी इंदौर में देह व्यापर के लिये ग्राहक और व्यवस्था करने वाले कौन हैं, इंदौर से भोपाल यह युवती किनके माध्यम से आई थी, इन सब सवालों का रहस्यों से पर्दा अभी उठना अभी बाकि है।
(राजेन्द्र कश्यप) मोबाईल नंबंर - 9753041701

भोपाल में दिल्ली की मॉडल युवती को रंगे हाथो देह व्यापार करते पकड़ा
भोपाल 10 मार्च 2011। भोपाल क्रिइम ब्रंच ने एमपी नगर की एक होटल पर छापा डाल दिल्ली की मॉडल युवती रंगे हाथो देह व्यापार करते पकड़ा। प्रतिवाद डॉट कॉम द्वारा दी गई खबर सही साबित हुई की दिल्ली की एक मॉडल आज भोपाल में देह व्यापार के लिए इंदौर से आ रही है। आज वह एमपी नगर के एक होटल में ठहरी थी, एक प्रतिवाद द्वारा दी गई खबर पर भोपाल के एक पत्रकार और क्रांइब ब्रांच की टीम ने ग्राहक बन कर छापा डाला और युवती को होटल के कमरे से पकड़ा। युवती के दलाला से 20 हजार में सौदा तय हुआ था। युवती दो दिन इंदौर में रहने के बाद फ्लाईट से भोपाल आई थी, इंदौर में कौन उस के ग्राहक थे किन-किन फोन नं पर उस की बात हुई थी पुलिस अभी सभी रिर्काड तलाश रही है। युवती इंदौर से अपने साथ 1.50 लाख लेकर आई थी जो उस ने आज सुबह ही दिल्ली में बैठे उस के दलाल के खाते में जमा करे थे। यह युवती अकेली ही भोपाल आई थी जबकि इस का दलाल और रेकैट का सरगना हाथ नहीं आ सका। युवती का कहना था वह गुप्ता जो इस से देह व्यापार करवा रहा था सिफ एक बार मिली है इस के बाद से वह सिफ फोन से ही इसे उस के ग्राहकों के पास भेजता था।

युवती के दलाल पत्रकारों को दी जान से मारने की धमकी
भोपाल 11 मार्च 2011। स्टिंग आपरेशन के समय और क्राइम ब्रांच के छापे के दौरान साथ रहे पत्रकारों को युवती के दलाल ने आपने मोबाइल से रात के 11.15 बजे धमकी देते हुए कहा की दो दिन में इस का परिणाम आप लोगों को भुगतना पड़ेगा आप को मरवा दूंगा और याद रखो आप के छोटे-छोटे बच्चे है, आप ने बहुत गलत किया और आप ने बहुत गलत शुरूआत की है, अब मरने के लिए तैयार रहों। पत्रकारों ने इस धमकी की शिकायत एमपी नगर थाने में दर्ज करवा दी गई है।



सुने फोन पर किस तरह दलाल ने भोपाल के लिए बुक किया था मॉडल को

Sunday, March 13, 2011

उज्जैन हिन्दुस्तान का सबसे अच्छा तीर्थ नगर बने : श्री शिवराज सिंह चौहान


उज्जैन हिन्दुस्तान का सबसे अच्छा तीर्थ नगर बने : श्री शिवराज सिंह चौहान



Bhopal: Sunday, March 13, 2011:


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि महाकाल की नगरी उज्जैन हिन्दुस्तान का सबसे अच्छा तीर्थ नगर बनना चाहिए। उन्होंने कहा कि उज्जैन नगर की व्यवस्थाएं भारत के श्रेष्ठ मंदिरों के अनुरूप बनायी जायेगी। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने यह बात आज जेएनएनयूआरएम प्रोजेक्ट के तहत महाकाल विरासत क्षेत्र के अंतर्गत 47.39 करोड़ रूपये की लागत से बनने वाले प्रथम चरण के 12 घटको के शिल्यान्यास अवसर पर कही। इस अवसर पर प्रभारी मंत्री श्री विजय शाह, खाद्य राज्यमंत्री श्री पारस जैन, सांसद श्री प्रेमचंद गुङडू एवं महापौर श्री रामेश्वर अखण्ड भी मौजूद थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सिंहस्थ के काम को राज्य सरकार ने इसी साल से प्रारंभ कर दिया है और इसके लिये 50 करोड़ रूपये की राशि की व्यवस्था भी इसी बजट में कर दी गयी है। विकास के मामले मे सभी को एक होना चाहिए। उन्होंने पार्षदों से आव्हान किया कि वार्ड सुंदर व स्वच्छ होना चाहिए। मुख्यमंत्री ने उज्जैन के नागरिकों की विकास क प्रति ललक एवं त्याग की भावना की प्रशंसा करते हुए कहा कि अब उज्जैन का विकास कोई नही रोक सकता।

सांसद श्री प्रेमचंद गुड्डू ने कहा कि जिस प्रकार तिरूपती मंदिर में व्यवस्थाएं है वैसी ही व्यवस्थाएं महाकाल मंदिर में होनी चाहिऐ। उन्होंने कहा कि इस शहर में 300 करोड़ के सीवरेज प्रोजेक्ट की स्वीकृती के लिये पहल की जा रही है।

महापौर श्री रामेश्वर अखण्ड ने कहा कि वर्षों बाद महाकाल क्षेत्र के विकास की शुरूआत करने का अवसर आया है। मुख्यमंत्री ने सिंहस्थ की तैयारी अभी से शुरू कर दी है तथा सिंहस्थ की राशि 5 करोड़ से बढ़ाकर इसी बजट में 50 करोड़ कर दी गई है। 35 करोड़ की लागत से आगर रोड़ का निर्माण कार्य प्रारंभ हो चुका है। कार्यक्रम में विधायक श्री शिवनारायण जागीरदार , नगर निगम सभापति श्री सोनू गेहलोत, माटीकला बोर्ड के अध्यक्ष श्री अशोक प्रजापत, नगर अध्यक्ष श्री अनिल जैन कालूहेड़ा, पार्षद एवं जनप्रतिनिधिगण, कमिश्नर श्री टी.धर्माराव, कलेक्टर डॉ. एम.गीता, आईजी श्री उपेन्द्र जैन, पुलिस अधीक्षक श्री सतीश सक्सेना सहित गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

उल्लेखनीय है कि जेएनएनयूआरएम के तहत महाकाल वन प्रोजेक्ट के तहत प्रथम चरण में योजना के 12 घटकों के लिये कुल 47 करोड़ 39 लाख रूपये की स्वीकृति हुई है। जिसमें महाकाल चौक का विकास, इंटरप्रिटेंशन सेंटर, लैण्ड स्केपिंग, फुडकोर्ट निर्माण, सुविधाघर निर्माण, छत्रीचौक का संरक्षण, कोटीतीर्थ का संरक्षण, रामघाट एवं गंधर्व घाट का संरक्षण, कार्तिक चौक का सरंक्षण, पुरानी गलियों का संरक्षण, साईनेज पार्किंग एवं एप्रोज टू पार्किंग शामिल है।






--------------------------------------------------------------------------------

भोपाल में हाई प्रोफाईल सेक्स रेकेट का भन्डाफोड़



भोपाल में हाई प्रोफाईल सेक्स रेकेट का भन्डाफोड़
(राजेन्द्र सिंह कश्यप)
भोपाल अंतर्राष्ट्रीय नक्शे में एक प्रसिद्ध नाम है । यहां लिट्टे के द्वारा संचालित कारखाने मिलते हैं वहीं दाऊद ईब्राहीम जैसे अंतराष्ट्रीय अपराधी के ग्रुगों की शरण स्थली भी है। लश्करे तौयेबा से संबंधित सिम्मी के केन्द्र के रूप में इसे जाना जाता है। और अब यह हाई प्रोफाईल सेक्स रेकेट के सदस्य के भोपाल में क्राईम ब्रांच द्वारा गिफ्तारी, दिल्ली की काल गर्ल्स के पकडाने से साफ हो गया है की भोपाल के जिस्म फरोशी का कारोबार हाई प्रोफाईल ढंग से आ रहा है। दिल्ली बम्बई कलकत्ता और मद्रास की तरह भोपाल भी अब गरम गोश्त के सोदागरों का केन्द्र बनता जा रहा है। गत वर्षों से भोपाल के खोजी पत्रकारों को संकेत मिल रहे थे कि दिल्ली, मुबंई की कालगर्ल्स का भोपाल में आना जारी हो गया है। दो नंबरी अमीर अय्याश व्यापारी, रिश्व तखोर बेलगाम भ्रष्ट अधिकारीगण बिल्डर्स और ठेकेदारों को चारा के रूप में कालर्गल्स सप्लाई की जा रही है। पिछले 10 वर्षों से भोपाल में प्रदेश की विभिन्न विकास योजनाओं के निर्माण कार्यों के ठेके भारत की विभिन्न कंपनीयों को दिये जाते रहें हें। मध्यप्रदेश के भ्रष्ट राजनेताओं अधिकारियों की मिलीभगत से भ्रष्टाचार की बेल फल-फूल रही है। शराब, शवाब, और कवाब के साथ प्रदेश के बडे होटलों में कालेधन के सोदागर अपने सोदों को पक्का कर रहें हैं । जिस्मफरोशी का धन्धा भी अब हाईटेक रूप से चलाये जा रहा है और अनेक पोर्टल पर विज्ञापन देकर ग्राहक बंटोरे जाते हैं। भोपाल में एक तीन सितारा होटल में पकड़ाई सिमरन नाम (कल्पित नाम) की कालगर्ल का विज्ञापन एक एयर होस्टेस के रूप में दिया जा रहा था। इस रेकैट का समचार ’’प्रतिवाद’’ डॉट कॉम न्यूज बेवसाईट ने दिया, ’’प्रतिवाद’’ न्यूज वेबसाईट के रूप में गत 6 वर्षों से कार्य कर रही है। जब इस के संपादक दीपक शर्मा को एक मेल द्वारा सूचना मिलने पर उन्होनें अपनी साइट द्वारा इस काल गर्ल्स व इस रेकेट का भन्डाफोड़ करने के लिये 9 मार्च को निर्णय कर लिया गया था कि 10 मार्च को 11 बजे ही इस समाचार को पहले प्रसारित कर, तथा मध्य प्रदेश की विधानसभा प्रेस कक्ष में सप्रमाण विज्ञापन की फोटोकापी वितरित कर दी और उन की साईट और ईमेल से मीडिया के लोगों को लग गई, जिसमें काल गर्ल्स सिमरन उनके दिल्ली स्थित दलाल गुप्ता का मोबाईल नंबर भी था। दीपक शर्मा के माध्यम से सारी जानकारी मिलने पर पत्रकारों ने पुलिस को सुचित किया और दीपक शर्मा और भरत पमनानी के साथ क्राईम ब्रांच ने होटल पर स्टिंग आपरेशन कर छापा मार कर सिमरन को गिरफ्तार कर लिया। दीपक शर्मा और भरत पमनानी को पुलिस ने पूर्ण सहयोग करते हुए सफल छापामार कर्रवाई को अंजाम दिया दिया। पुलिस ने हाई प्रोफाईल सेक्स रेकेट का एक मोहरा को गिरफ्तार कर लिया यह कालगर्ल इन्दौर में दिन एक होटल में रही और 10 तारीख को भोपाल सुबह ही पहुंची थी। दिल्ली की एक साधारण परिवार की युवती देह व्यापार के लिये इन्दौर से पूर्व अन्य बड़े शहरों में भी जा चुकी है। देह व्यापार का एक बहुत बड़ा रेकैट जो बेबसाइट के माध्यम से ग्राहक तलाशता है हर क्षेत्रों को लड़कियां सप्लाई करता है। 10 मार्च को रात्रि को दीपक शर्मा और भरत पमनानी जब महिला थाना के परिसर में थे उसी समय सेक्स रेकेट का सप्लायई गुप्ता को पत्रकार को जान से मारने की धमकी दी, जिसकी सूचना पत्रकारों को मिलने पर उनहोंने रात 12 ही एमपी नगर थाने में इस की शिकायत दर्ज करवा दी थी इस के बाद मध्यप्रदेश के गृहमंत्री उमाशंकर गुप्ता को उनके निवास पर जाकर दी। सेक्स रेकेट की धमकी के बावजूद पत्रकारों की जान की सुरक्षा नहीं की जा रही है। पुलिस को युवती ने बताया कि इन्दौर से डेढ़ लाख रूपये कमाकर भोपाल लाई थी और 1.50 लाख रूपये उसने अपने दलाल के अकाउन्ट में जमा कर दिये । पचास हजार रूपये क्राइम ब्रांच ने उसके पास से नगद बरामद किये हैं। महिला थाना पुलिस ने शुक्रवार 11 मार्च को युवती को जिला अदालत में पेश किया। विवेक गौर एस.डी.ओ. ने पुलिस की ओर से पेरवी करते हुए दो दिन के रिमान्ड की मांग की जो उसे प्राप्त हे गई। क्राईम ब्रांच की ए.एस.पी मोनिका शुक्ला की पूछताछ में युवती ने अपने एजेन्ट का नाम विनोद गुप्ता बताया है, जो दिलली रेकेट का मुखिया है। अभी तक यह जानकारी नहीं मिली है कि इन्दौर से कालगर्ल किसके माध्यम से भोपाल आई थी और इन्दौर में कहां ठहरी थी। युवती के पास जो मोबाईल जप्त किया है उसमें कई बड़े रसूखदारों हस्तियों के नम्बर मिले हैं। युवती ने इन ग्राहकों के नम्बर गुप्त कोड में सेव किये हैं। दिल्ली से संचालित इस रेकेट की सदस्य से इस व्यापार से जुड़ी एक पोर्टल में सिमरन नाम से जुड़ी हुई है। ’’प्रतिवाद’’ द्वारा जब इस पोर्टल की जानकारी पत्रकारों को मिली तो उन्होने पुलिस को सूचित किया था। सेक्स व्यापार से जुड़ें युवती ने पुलिस को बताया है कि सेक्स रेकेट से जुड़ी पोर्टल का दावा है कि उनके नेटवर्क में 15000 हजार लड़कियां शामिल हैं। जिस पोर्टेल के माध्यम से इस धन्धे में आयी है उसका नेटवर्क इस देश में ही नहीं बल्कि विदेशें में भी है। यह सेक्स रेकेट दुनिया भर में फेला हुआ है। भोपाल और दिल्ली की पुलिस भी पोर्टेल की डीटेल्स हासिल कर इसके संचालकों की तलाश शुरू कर रही हैं। दिल्ली पुलिस भी इस गिरोह की तलाश करने में लग गयी है। भोपाल की पुलिस ने राजस्थान, अहमदाबाद में अपनी टीमें भेजी हैं। पुलिस सुधांषु गुप्ता को लताश कर रही है। जिसने इस युवती को भोपाल भेजा था। सुधांषु गुप्ता को ने अपना मोबाईल बन्द कर लिया है। हाई प्रोफाईल युवती सिमरन दिल्ली की रहने वाली है। 12 वीं पास यह युवती एक बेरोजगार परिवार से जुड़ी है। उसके माता-पिता बेरोजगार हैं। परिवार के भरा-पोषण के लिए वह इस काम से जुड़ी है। इस सेक्स रेकेट का मुखिया कौन है, क्या विनोद गुप्ता को किसके संरक्षण से यह अन्तर्राष्ट्रीय सेक्स व्यापार चला रहा है मध्य प्रदेश में इसके कौन सहयोगी हैं, भोपाल इन्दौर में इससे पहले कितनी काल गर्लस भेजी गई थी इंदौर में देह व्यापर के लिये ग्राहक और व्यवस्था करने वाले कौन हैं, इंदौर से भोपाल यह युवती किनके माध्यम से आई थी, इन सब सवालों का रहस्यों से पर्दा अभी उठना अभी बाकि है।
(राजेन्द्र कश्यप) मोबाईल नंबंर - 9753041701

भोपाल में हाई प्रोफाईल सेक्स रेकेट का भन्डाफोड़


भोपाल में हाई प्रोफाईल सेक्स रेकेट का भन्डाफोड़ भोपाल में हाई प्रोफाईल सेक्स रेकेट का भन्डाफोड़
(राजेन्द्र सिंह कश्यप)
भोपाल अंतर्राष्ट्रीय नक्शे में एक प्रसिद्ध नाम है । यहां लिट्टे के द्वारा संचालित कारखाने मिलते हैं वहीं दाऊद ईब्राहीम जैसे अंतराष्ट्रीय अपराधी के ग्रुगों की शरण स्थली भी है। लश्करे तौयेबा से संबंधित सिम्मी के केन्द्र के रूप में इसे जाना जाता है। और अब यह हाई प्रोफाईल सेक्स रेकेट के सदस्य के भोपाल में क्राईम ब्रांच द्वारा गिफ्तारी, दिल्ली की काल गर्ल्स के पकडाने से साफ हो गया है की भोपाल के जिस्म फरोशी का कारोबार हाई प्रोफाईल ढंग से आ रहा है। दिल्ली बम्बई कलकत्ता और मद्रास की तरह भोपाल भी अब गरम गोश्त के सोदागरों का केन्द्र बनता जा रहा है। गत वर्षों से भोपाल के खोजी पत्रकारों को संकेत मिल रहे थे कि दिल्ली, मुबंई की कालगर्ल्स का भोपाल में आना जारी हो गया है। दो नंबरी अमीर अय्याश व्यापारी, रिश्व तखोर बेलगाम भ्रष्ट अधिकारीगण बिल्डर्स और ठेकेदारों को चारा के रूप में कालर्गल्स सप्लाई की जा रही है। पिछले 10 वर्षों से भोपाल में प्रदेश की विभिन्न विकास योजनाओं के निर्माण कार्यों के ठेके भारत की विभिन्न कंपनीयों को दिये जाते रहें हें। मध्यप्रदेश के भ्रष्ट राजनेताओं अधिकारियों की मिलीभगत से भ्रष्टाचार की बेल फल-फूल रही है। शराब, शवाब, और कवाब के साथ प्रदेश के बडे होटलों में कालेधन के सोदागर अपने सोदों को पक्का कर रहें हैं । जिस्मफरोशी का धन्धा भी अब हाईटेक रूप से चलाये जा रहा है और अनेक पोर्टल पर विज्ञापन देकर ग्राहक बंटोरे जाते हैं। भोपाल में एक तीन सितारा होटल में पकड़ाई सिमरन नाम (कल्पित नाम) की कालगर्ल का विज्ञापन एक एयर होस्टेस के रूप में दिया जा रहा था। इस रेकैट का समचार ’’प्रतिवाद’’ डॉट कॉम न्यूज बेवसाईट ने दिया, ’’प्रतिवाद’’ न्यूज वेबसाईट के रूप में गत 6 वर्षों से कार्य कर रही है। जब इस के संपादक दीपक शर्मा को एक मेल द्वारा सूचना मिलने पर उन्होनें अपनी साइट द्वारा इस काल गर्ल्स व इस रेकेट का भन्डाफोड़ करने के लिये 9 मार्च को निर्णय कर लिया गया था कि 10 मार्च को 11 बजे ही इस समाचार को पहले प्रसारित कर, तथा मध्य प्रदेश की विधानसभा प्रेस कक्ष में सप्रमाण विज्ञापन की फोटोकापी वितरित कर दी और उन की साईट और ईमेल से मीडिया के लोगों को लग गई, जिसमें काल गर्ल्स सिमरन उनके दिल्ली स्थित दलाल गुप्ता का मोबाईल नंबर भी था। दीपक शर्मा के माध्यम से सारी जानकारी मिलने पर पत्रकारों ने पुलिस को सुचित किया और दीपक शर्मा और भरत पमनानी के साथ क्राईम ब्रांच ने होटल पर स्टिंग आपरेशन कर छापा मार कर सिमरन को गिरफ्तार कर लिया। दीपक शर्मा और भरत पमनानी को पुलिस ने पूर्ण सहयोग करते हुए सफल छापामार कर्रवाई को अंजाम दिया दिया। पुलिस ने हाई प्रोफाईल सेक्स रेकेट का एक मोहरा को गिरफ्तार कर लिया यह कालगर्ल इन्दौर में दिन एक होटल में रही और 10 तारीख को भोपाल सुबह ही पहुंची थी। दिल्ली की एक साधारण परिवार की युवती देह व्यापार के लिये इन्दौर से पूर्व अन्य बड़े शहरों में भी जा चुकी है। देह व्यापार का एक बहुत बड़ा रेकैट जो बेबसाइट के माध्यम से ग्राहक तलाशता है हर क्षेत्रों को लड़कियां सप्लाई करता है। 10 मार्च को रात्रि को दीपक शर्मा और भरत पमनानी जब महिला थाना के परिसर में थे उसी समय सेक्स रेकेट का सप्लायई गुप्ता को पत्रकार को जान से मारने की धमकी दी, जिसकी सूचना पत्रकारों को मिलने पर उनहोंने रात 12 ही एमपी नगर थाने में इस की शिकायत दर्ज करवा दी थी इस के बाद मध्यप्रदेश के गृहमंत्री उमाशंकर गुप्ता को उनके निवास पर जाकर दी। सेक्स रेकेट की धमकी के बावजूद पत्रकारों की जान की सुरक्षा नहीं की जा रही है। पुलिस को युवती ने बताया कि इन्दौर से डेढ़ लाख रूपये कमाकर भोपाल लाई थी और 1.50 लाख रूपये उसने अपने दलाल के अकाउन्ट में जमा कर दिये । पचास हजार रूपये क्राइम ब्रांच ने उसके पास से नगद बरामद किये हैं। महिला थाना पुलिस ने शुक्रवार 11 मार्च को युवती को जिला अदालत में पेश किया। विवेक गौर एस.डी.ओ. ने पुलिस की ओर से पेरवी करते हुए दो दिन के रिमान्ड की मांग की जो उसे प्राप्त हे गई। क्राईम ब्रांच की ए.एस.पी मोनिका शुक्ला की पूछताछ में युवती ने अपने एजेन्ट का नाम विनोद गुप्ता बताया है, जो दिलली रेकेट का मुखिया है। अभी तक यह जानकारी नहीं मिली है कि इन्दौर से कालगर्ल किसके माध्यम से भोपाल आई थी और इन्दौर में कहां ठहरी थी। युवती के पास जो मोबाईल जप्त किया है उसमें कई बड़े रसूखदारों हस्तियों के नम्बर मिले हैं। युवती ने इन ग्राहकों के नम्बर गुप्त कोड में सेव किये हैं। दिल्ली से संचालित इस रेकेट की सदस्य से इस व्यापार से जुड़ी एक पोर्टल में सिमरन नाम से जुड़ी हुई है। ’’प्रतिवाद’’ द्वारा जब इस पोर्टल की जानकारी पत्रकारों को मिली तो उन्होने पुलिस को सूचित किया था। सेक्स व्यापार से जुड़ें युवती ने पुलिस को बताया है कि सेक्स रेकेट से जुड़ी पोर्टल का दावा है कि उनके नेटवर्क में 15000 हजार लड़कियां शामिल हैं। जिस पोर्टेल के माध्यम से इस धन्धे में आयी है उसका नेटवर्क इस देश में ही नहीं बल्कि विदेशें में भी है। यह सेक्स रेकेट दुनिया भर में फेला हुआ है। भोपाल और दिल्ली की पुलिस भी पोर्टेल की डीटेल्स हासिल कर इसके संचालकों की तलाश शुरू कर रही हैं। दिल्ली पुलिस भी इस गिरोह की तलाश करने में लग गयी है। भोपाल की पुलिस ने राजस्थान, अहमदाबाद में अपनी टीमें भेजी हैं। पुलिस सुधांषु गुप्ता को लताश कर रही है। जिसने इस युवती को भोपाल भेजा था। सुधांषु गुप्ता को ने अपना मोबाईल बन्द कर लिया है। हाई प्रोफाईल युवती सिमरन दिल्ली की रहने वाली है। 12 वीं पास यह युवती एक बेरोजगार परिवार से जुड़ी है। उसके माता-पिता बेरोजगार हैं। परिवार के भरा-पोषण के लिए वह इस काम से जुड़ी है। इस सेक्स रेकेट का मुखिया कौन है, क्या विनोद गुप्ता को किसके संरक्षण से यह अन्तर्राष्ट्रीय सेक्स व्यापार चला रहा है मध्य प्रदेश में इसके कौन सहयोगी हैं, भोपाल इन्दौर में इससे पहले कितनी काल गर्लस भेजी गई थी इंदौर में देह व्यापर के लिये ग्राहक और व्यवस्था करने वाले कौन हैं, इंदौर से भोपाल यह युवती किनके माध्यम से आई थी, इन सब सवालों का रहस्यों से पर्दा अभी उठना अभी बाकि है।
(राजेन्द्र कश्यप) मोबाईल नंबंर - 9753041701

दूरसंचार अधिकारी के कक्ष में मिला खून से सना चाकू

दूरसंचार अधिकारी के कक्ष में मिला खून से सना चाकू
दूरसंचार अधिकारी के कक्ष में मिला खून से सना चाकू
भोपाल, 11 मार्च 2011। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के दूरसंचार निगम के उप महाप्रबंधक वाई. एस. सिसौदिया के कक्ष में शुक्रवार को खून से सना हुआ चाकू, एक पर्स व चप्पल मिलने से सनसनी फैल गई है। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।
मिली जानकारी के अनुसार एमपी नगर क्षेत्र में अरेरा हिल्स में स्थित दूरसंचार कार्यालय में पदस्थ सिसौदिया के कक्ष का कांच टूटा हुआ था, टेबिल पर खून लगा हुआ चाकू, महिला का पर्स व जमीन पर चप्पल पड़ी थी। इसकी सूचना पुलिस को दी गई।
नगर पुलिस अधीक्षक समर वर्मा ने बताया है कि पुलिस इस मामले की जांच कर रही है। वही सिसौदिया ने इस घटना से पूरी तरह अनभिज्ञता जताई है।

सहयोगी के साथ हुए अभद्र व्यवहार से व्यथित प्रोफेसर की मौत

सहयोगी के साथ हुए अभद्र व्यवहार से व्यथित प्रोफेसर की मौत
भोपाल, 21 जनवरी 2011। मध्य प्रदेश में खंडवा जिले के कृषि महाविद्यालय में एक प्रोफेसर के साथ हुई अभद्रता से उनके साथी प्रोफेसर को गहरा सदमा पहुंचा और दिल का दौरा पड़ने से उनकी मौत हो गई।
राज्य में खंडवा के भगवतराव कृषि महाविद्यालय में प्रोफेसर अशोक चौधरी पर कथित तौर पर एक छात्रा के साथ छेड़छाड़ करने का आरोप लगाते हुए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के कार्यकर्ताओं ने उनके साथ मारपीट करने के बाद चेहरे पर कालिख पोत दी थी। बीच बचाव करने की कोशिश में मौके पर मौजूद प्रोफेसर सुरेंद्र सिंह ठाकुर को भी चोटें आईं थीं।
घटना के दूसरे दिन प्रोफेसर सुरेंद्र अपने गृह नगर दमोह छुट्टी पर चले गए थे। परिजनों का कहना है कि खंडवा से दमोह लौटने के बाद वह सिर्फ उस हादसे की ही चर्चा किया करते थे जो चौधरी के साथ हुआ था।
सुरेंद्र ठाकुर के मित्र विजय जैन के अनुसार घटना के बाद से ही सुरेंद्र बेहद तनाव में थे। शुक्रवार को उन्होंने सीने में दर्द की शिकायत की जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया जहां उन्होंने दम तोड़ दिया। सुरेंद्र सिंह की बेटी सोनालिका का कहना है कि प्रो. चौधरी के साथ हुए बर्ताव से वह बेहद दुखी थे। फोन पर भी उन्होंने घटना का जिक्र करते हुए कहा था कि यह कैसा समय आ गया है जब छात्र अपने अध्यापकों से इस तरह की अभद्रता करने पर उतारू हो जाते हैं।
ज्ञात हो कि इससे पहले वर्ष 2007 में उज्जैन में भी कथित तौर पर एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने प्रो. सब्बरवाल के साथ अभद्रता की थी जिसके चलते उनकी मौत हो गई थी।

Date: 12-03-2011 Time: 20:02:17

जमीनी विवाद में तेजाब फेंका, 5 झुलसे

जमीनी विवाद में तेजाब फेंका, 5 झुलसे
पन्ना, 11 मार्च 2011। मध्य प्रदेश के पन्ना जिले में जमीन को लेकर हुए विवाद ने मारपीट का रूप ले लिया और एक पक्ष ने दूसरे पर तेजाब फेंक दिया, जिससे पांच लोग झुलस गए।
पुलिस के मुताबिक अमानगंज थाना क्षेत्र के द्वारी गांव में रवि प्रकाश चनपुरिया एवं नाथूराम सोनी के बीच जमीन की खरीद-फरोख्त का सौदा हुआ था। इसी मामले पर दोनों पक्षों में शुक्रवार को विवाद हुआ। विवाद मारपीट तक पहुंच गया और दोनों ओर से लाठी-डंडों का इस्तेमाल किया गया। इसी दौरान सोनी परिवार के लोगों ने चनपुरिया के परिजनों पर तेजाब फेंक दिया। तेजाब से पांच लोग झुलस गए हैं, जिनमें कुछ बीच-बचाव करने वाले लोग भी हैं।
अमानगंज के थाना प्रभारी हिमांशु द्विवेदी ने आईएएनएस को बताया कि झुलसे पांच लोगों में एक की हालत गम्भीर है, जिसे उपचार के लिए जबलपुर के अस्पताल में भेजा गया है। आरोपियों की तलाश जारी है।


Date

Saturday, March 12, 2011

कांग्रेस की उलटी गिनती शुरू

कांग्रेस की उलटी गिनती शुरू
उज्जैन। 12 मार्च 2011। भाजपा की दो-दिवसीय प्रदेश कार्यसमिति का शुभारंभ करते हुए मध्यप्रदेश प्रभारी और केन्द्रीय नेता अनंतकुमार ने कहा कि आने वाले दिन भाजपा के हैं। कांग्रेस की उलटी गिनती शुरू हो गई है। भाजपा का दिल्ली का राजमार्ग भोपाल से होकर होगा। आपने दावा किया कि मध्यप्रदेश में भाजपा हैट्रिक करेगी और अगली बार 200 सीटें लाएगी।
अनंतकुमार ने हरिफाटक क्षेत्र के मित्तल एवेन्यू होटल परिसर में कार्यसमिति के सदस्यों को सम्बोधित करते हुए संतोष व्यक्त किया कि प्रदेश में संगठन और सरकार के मध्य अच्छा समन्वय है। पार्टी ने उज्जैन नगर निगम और दोनों उप चुनाव में विजय हासिल की है। भाजपा केवल सत्ता पाने की पार्टी नहीं है वरन् आज जनता की पार्टी है। हम प्रदेश में लगातार तीसरी बार भी सरकार बनाएंगे और कम से कम 200 सीटें जीतेंगे। आपने कहा कि बिहार में भाजपा को 91 सीटों की बड़ी सफलता केवल मध्यप्रदेश के कार्यकर्ताओं की मेहनत के कारण मिली है।
अनंतकुमार अपने संबोधन के आधे से अधिक समय कांग्रेस को उलाहने देने में व्यस्त रहे। ऐसा लगा कि उन्हें कांग्रेस का फोबिया हो गया है। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार, काला धन और मंहगाई के कारण कांग्रेस की छवि धूमिल हो गई है। मुद्रास्फीति 16 प्रतिशत हो गई है, जो भाजपा शासन में 2 से 3 प्रतिशत थी। उन्होंने प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह का नाम लेते हुए कहा कि केन्द्रीय नेतृत्व में अंतर्विरोध शुरू हो गया है। बहुमत के बावजूद प्रधानमंत्री को लेकर आवाजें उठने लगी हैं। यूपीए गठबंधन टूटा है। बिखराव शुरू हो गया है। कांग्रेस हर चुनाव हार रही है। तमिलनाडु में डीएमके वापस सत्ता में नहीं लौटेगी। बिहार चुनाव के बाद राहुल गांधी मेजिक समाप्त हो गया है। आगे आने वाले दिन भाजपा के है। प्रदेश के वित्तीय बजट की प्रशंसा करते हुए उन्होंने कहा कि यह देश के लिए उदाहरण है। एक प्रतिशत ब्याज पर किसानों को ऋण दिया जा रहा है, जो अनूठा है। लाड़ली और भाग्यलक्ष्मी योजनाएं अभिनव हैं। आपने कहा कि 25 मार्च को संसद में गांधी प्रतिमा पर कांग्रेस कुशासन को लेकर भाजपा धरना देगी और फिर एक प्रतिनिधिमंडल प्रधानमंत्री से मिलेगा। 1 से 15 जून तक प्रदेश के सभी ब्लॉक स्तरों तक इसी मुद्दे को लेकर रैलियां निकाली जाएगी। आपने कहा कि मध्यप्रदेश अब बीमारू राज्य नहीं रहा है।
इसके पूर्व भाजपा प्रदेशाध्यक्ष प्रभात झा ने अपने 7 पेजी भाषण की शुरूआत कवि, साहित्यकार डॉ. शिवमंगलसिंह सुमन की कविता ??मैं शिप्रा सा सरल-तरल बहता हूँ?? से की। उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार की न साख बची न धाक। मुखिया मनमोहन सिंह की किरकिरी हो रही है। मध्यावधि चुनाव की चर्चा शुरू हो चुकी है। देश भाजपा की ओर आशा से देख रहा है। कुक्षी और सोनकच्छ की जीत से भाजपा की साख बढ़ी है। उन्होंने कहा कि संगठन में सकारात्मक राजनीति की पहल प्रारंभ की गई है। समृद्धि दिवस से भाजपा को जनता में सराहना मिली है। आपने केन्द्र सरकार से आग्रह किया कि राज्य शासन द्वारा भेजे गए भोपाल को भोजपाल करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे। पराजित सीटों पर भाजपा और परिश्रम करेगी। शुभारंभ समारोह मंच पर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह सहित 11 अतिथि मौजूद थे जिनमें केन्द्रीय नेता थावरचंद गेहलोत, नरेन्द्रसिंह तोमर, फगनसिंह कुलस्ते, संगठन मंत्री अरविंद मेनन, तनवीर एहमद, महापौर रामेश्वर अखण्ड और नगर अध्यक्ष अनिल जैन, कालूहेड़ा भी शामिल थे। संगठन मंत्री रहे माखनसिंह, भगवतशरण माथुर, कप्तानसिंह और पूर्व मुख्यमंत्री सुन्दरलाल पटवा, कैलाश जोशी, बाबूलाल गौर, सांसद सुमित्रा महाजन और मायासिंह प्रतिनिधि के रूप में विशेष रूप से मौजूद थे।
Date: 12-03-2011

एमपी नगर की एक होटल से देह व्यापार करती मिली हाई प्रोफाइल युवती


भोपाल। एमपी नगर की एक होटल से देह व्यापार करती मिली हाई प्रोफाइल युवती देश भर में फैले ऑनलाइन सेक्स व्यापार के एक चर्चित पोर्टल से जुड़ी है। भोपाल में एक ग्राहक ने उसी पोर्टल के जरिए इस कॉल गर्ल की मांग की थी, जिसके बाद इसे एजेंट के मार्फत भोपाल भेजा गया था। उक्त पोर्टल ने ग्राहकों को लुभाने के लिए यह दावा भी किया है कि उनके नेटवर्क में 15 हजार लड़कियां और इतनी ही दूसरी युवतियां शामिल हैं। हालांकि रविवार सुबह से उक्त पोर्टल ने अपने होम पेज से एजेंटों के मोबाइल नंबर हटा लिए हैं, ताकि पुलिस उन तक न पहुंच पाए।

पूछताछ में युवती ने पुलिस को यह भी बताया है कि वह जिस पोर्टल के माध्यम से इस गोरखधंधे में आई है, उसका नेटवर्क देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी है। राजधानी पुलिस ने पोर्टल की डिटेल्स हासिल कर इस गिरोह के सरगनाओं की तलाश शुरू कर दी है। इसके लिए राजधानी पुलिस की टीमें दिल्ली और राजस्थान गई हुई हैं। पुलिस अभी उस एजेंट सुधांशु गुप्ता को तलाश रही है, जिसने इस युवती को भोपाल भेजा था। हालांकि युवती के पकड़े जाने के बाद गुप्ता ने अपना मोबाइल फोन बंद कर लिया है।

एसटीएफ को नहीं मिला केस: रविवार सुबह से पुलिस महकमे में यह चर्चा चलती रही कि इस मामले की जांच एसटीएफ करेगा। हालांकि एसटीएफ ने साफ कर दिया है कि उन्हें इसकी जांच नहीं सौंपी गई है।

अहमदाबाद भी गई थी: युवती से पूछताछ में पुलिस को यह भी पता चला है कि भोपाल और इंदौर आने से पहले वह अहमदाबाद भी गई थी। वह अहमदाबाद में 3 दिन तक एक होटल में ठहरी थी। पुलिस को इस बात के साक्ष्य मिल गए हैं कि युवती ने एजेंट के अकाउंट में रुपए जमा कराए हैं।

जनवरी में शामिल हुई नेटवर्क में: युवती ने बताया है कि वह जनवरी 2011 में ही इस नेटवर्क में शामिल हुई है। उसने पुलिस को बताया है कि दिल्ली में रहने वाले उसके माता-पिता बेरोजगार हैं और भाई छोटे हैं। परिवार के भरण पोषण के लिए ही वह इस काम से जुड़ी है। वह महज बारहवीं कक्षा पास है। पुलिस यह पता करने की कोशिश कर रही है कि इस नेटवर्क से जुड़ी कितनी लड़कियां इससे पहले देह व्यापार के सिलसिले में भोपाल आई हैं? पुलिस को उम्मीद है कि एजेंट गुप्ता इस पोर्टल के नेटवर्क और कार्यप्रणाली के विषय में ज्यादा जानकारी दे पाएगा।

Friday, March 11, 2011

भाजपा नेता के बुलावे पर आई कॉल गर्ल


भोपाल। एमपी नगर की होटल रेसीडेंसी से गिरफ्तार कॉल गर्ल इंदौर के दो बड़े भाजपा नेताओं के बुलावे पर प्रदेश में आई थी। भोपाल आने से पहले वह दो दिन तक इंदौर में भी रूकी थी। यह जानकारी पुलिस के पास भी है लेकिन भाजपा नेताओं का नाम सामने आने के बाद वह कुछ भी कहने को तैयार नहीं है। अदालत ने उसे 14 तक पुलिस रिमांड पर सौंपा है।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि होटल रेसीडेंसी में गिरफ्तार मॉडल से पूछताछ चल रही है। उसने बताया है कि वह भोपाल से पहले दो दिन इंदौर की एक होटल में ठहरी थी। वह दो दिन तक वहां रही। इसके बाद वह फ्लाइट से भोपाल आ गई। जिस दिन वह भोपाल आई थी उस दिन खाते में पैसा भी जमा कराया गया था। हालांकि अफसर उसके बैंक खाते के मामले में कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है। उसने बताया कि वह दिल्ली के एक रेस्टोरेन्ट में मैनेजर भी है। वह देह व्यापार के इस कारोबार में जनवरी से आई है। देह व्यापार गिरोह चलाने वाला सुधांशु गुप्ता पूरे देश में सक्रिय रहता है। उसके संपर्क में कई और मॉडल व नौकरी पेशा युवतियां हैं। वह उन्हें ऑनलाइन सेक्स रैकेट चलाने के लिए इधर-उधर भेजता है।

इस हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट का पर्दाफाश करने के बाद से अफसर बचते नजर आ रहे हैं। उसके खिलाफ महिला थाने में देह व्यापार निवारण अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है। इस रैकेट का पर्दाफाश करने वाले दो व्यक्ति हैं जिन्हें अब रैकेट चलाने वाले गिरोह के दलाल सुधांशु गुप्ता से धमकियां मिल रही हैं। इस सिलसिले में सुरक्षा की मांग को लेकर उन्होंने गृहमंत्री उमाशंकर गुप्ता को ज्ञापन भी सौंपा है।

12-3-2011

Thursday, March 10, 2011

'हां, दिल्ली से भोपाल देहव्यापार के लिए आई थी'


भोपाल. एमपी नगर के एक बड़े होटल में छापा मारकर क्राइम ब्रांच ने दिल्ली से आई एक हाईप्रोफाइल युवती को देह व्यापार के आरोप में गिरफ्तार किया है। क्राइम ब्रांच के अधिकारी ने ग्राहक बनकर 40 हजार रुपए में युवती से सौदा तय किया था। युवती गुरुवार सुबह फ्लाइट से इंदौर से भोपाल पहुंची थी। यहां आने से पहले वह दो दिन इंदौर में ठहरी थी।

मूलत: दिल्ली की रहने वाली एक युवती गुरुवार सुबह होटल पहुंची थी। क्राइम ब्रांच को शाम को यह सूचना मिली कि एमपी नगर की होटल में ठहरी वह युवती देहव्यापार के लिए यहां आई है। सूचना पर क्राइम ब्रांच की टीम के एक सदस्य ने होटल पहुंचकर युवती से संपर्क किया।

40 हजार रुपए में सौदा तय हुआ। इसके बाद पहले से घात लगाए पुलिसकर्मियों ने उसे दबोच लिया। पूछताछ में युवती ने यह कबूल किया कि वह यहां देह व्यापार के लिए आई थी।

डेढ़ लाख लेकर आई थी : युवती इंदौर से डेढ़ लाख रुपए लेकर आई थी। गुरुवार सुबह उसने अपने एजेंट के अकाउंट में यह रुपए जमा कराए थे। पुलिस उसके बैंक ट्रांजिक्शन और मोबाइल डिटेल्स से उसके गिरोह का नेटवर्क खंगालने की कोशिश कर रही है।

वेबसाइट के माध्यम से तलाशती है ग्राहक: पुलिस को यह भी पता चला है कि यह युवती देह व्यापार संचालित करने वाले एक बड़े गिरोह का हिस्सा है। यह गिरोह वेबसाइट के माध्यम से ग्राहक तलाशता है और हर श्रेणी की लड़कियों की सप्लाय करता है।

eklavyashakti

महिला दिवस से मप्र में सक्रिय हुआ हाईप्रोफाईल सेक्स रैकेट आज भोपाल में एक दिन का आफर


भोपाल 10 मार्च 2011। मुंबई की एयर होस्टेस और मॉडल इंदौर और भोपाल आ कर कैसे कर रही है बेहिचक देह व्यापर, पहले मेल कर उन का दलाल करता है ग्रहकों की तलाश फिर फोन पर पक्का करता है सौदा, महिला दिवस को सिमरन नाम की एयर होस्टेस और माडल दो दिन इंदौर में रूकने के बाद आज भोपाल में रूकी है और उस का दलाल प्रति व्यक्ति 20 हजार रूपये की दर से उस के लिए ग्रहक जोड़ रहा है, और इसी कड़ी में भोपाल के एक पत्रकार से भी फोन पर सौदा तय हुआ दलाल ने बताया की आप एमपी नगर की होटल में आ जाये 20 हजार रूपये लेकर, पैसे पहले देने होगें फिर ही आप कमरे में जा सकेगें और पूरा सेक्स जैसा आप चाहे करे कोई अलग से चार्ज नहीं लगेगा। दलाल आपने आप को गुप्ता बताता है जिस का फोन नं 099873133337

मुंबई की एयर होस्टेस और मॉडल इंदौर और भोपाल आ कर कैसे कर रही है बेहिचक देह व्यापर, पहले मेल कर उन का दलाल करता है


भोपाल 10 मार्च 2011। मुंबई की एयर होस्टेस और मॉडल इंदौर और भोपाल आ कर कैसे कर रही है बेहिचक देह व्यापर, पहले मेल कर उन का दलाल करता है ग्रहकों की तलाश फिर फोन पर पक्का करता है सौदा, महिला दिवस को सिमरन नाम की एयर होस्टेस और माडल दो दिन इंदौर में रूकने के बाद आज भोपाल में रूकी है और उस का दलाल प्रति व्यक्ति 20 हजार रूपये की दर से उस के लिए ग्रहक जोड़ रहा है, और इसी कड़ी में भोपाल के एक पत्रकार से भी फोन पर सौदा तय हुआ दलाल ने बताया की आप एमपी नगर की होटल में आ जाये 20 हजार रूपये लेकर, पैसे पहले देने होगें फिर ही आप कमरे में जा सकेगें और पूरा सेक्स जैसा आप चाहे करे कोई अलग से चार्ज नहीं लगेगा। दलाल आपने आप को गुप्ता बताता है जिस का फोन नं 099873133337

Wednesday, March 9, 2011

भावी पीढ़ी बेहतर लोकतंत्र का संवाहक बनें - श्री ईश्वरदास रोहाणी


Bhopal: Wednesday, March 9, 2011:


मध्यप्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष श्री ईश्वरदास रोहाणी ने युवा पीढ़ी का आव्हान किया है कि वे भारतीय संसदीय प्रणाली का गहन अध्ययन कर एक बेहतर लोकतंत्र के संवाहक बनें। श्री रोहाणी आज रेहली विधानसभा क्षेत्र के शासकीय महाविद्यालय से संसदीय अध्ययन यात्रा पर आये छात्रों को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर पंचायत एवं ग्रामीण विकास तथा सामाजिक न्याय मंत्री एवं क्षेत्रीय विधायक श्री गोपाल भार्गव भी उपस्थित थे। इस मौके पर विधानसभा अध्यक्ष ने छात्रों से उनके क्षेत्र के विधायक का निरंतर 25 वर्षों से जीतने का रहस्य पूछा तो छात्रों ने एक स्वर से जवाब दिया कि श्री गोपाल भार्गव का हर परिवार से आत्मीय रिश्ता है और वे अपने क्षेत्र में मंत्री नहीं जनप्रतिनिधि के तौर पर रहते हैं।

विधानसभा अध्यक्ष श्री रोहाणी ने संसदीय अध्ययन यात्रा पर आये छात्रों की जिज्ञासाओं का जवाब देते हुये कहा कि आज सबसे बड़ी चुनौती यह है कि हम भविष्य में अपने देश के लोकतंत्र को और अधिक बेहतर कैसे बनाये, उन्होंने कहा कि यह जवाबदारी आप जैसी युवा पीढ़ी पर है। श्री रोहाणी ने कहा कि भावी पीढ़ी पर अपनी संसदीय प्रणाली का गहन अध्ययन कर उसकी खूबियों को निरंतर समृद्ध करने और कमियों को दूर करने की जवाबदारी है।

श्री रोहाणी ने इस अवसर पर उनके क्षेत्र के विधायक श्री गोपाल भार्गव के निरंतर चुनाव जीतने का रहस्य जानने की जब जिज्ञासा व्यक्त की तो सभी छात्रों ने बताया कि हमारे क्षेत्र में जब भी कोई मुसीबत में होता है तो वह सबसे पहले भैया (क्षेत्र के विधायक श्री गोपाल भार्गव) को याद करता है। उन्होंने कहा कि उसके बाद वह ईश्वर से प्रार्थना करता है कि ऐसे जनप्रतिनिधि उनके क्षेत्र में निरंतर रहे और पूरे प्रदेश की विधानसभा क्षेत्रों को ऐसे ही जनप्रतिनिधि मिलें। छात्रों ने श्री रोहाणी को बताया कि श्री भार्गव पिछले सात सालों से निरंतर मंत्री है, लेकिन वे आज भी हमारे बीच में हमारे जैसे और हमारे जनप्रतिनिधि बनकर ही रहते हैं। अपने क्षेत्र के विकास के प्रति उनकी प्रतिबद्धता और समर्पण का भाव हम सब लोगों के लिये प्रेरणा का स्त्रोत है। उल्लेखनीय है कि श्री गोपाल भार्गव 1985 से निरंतर रेहली विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।





--------------------------------------------------------------------------------

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने बुधवार को भोपाल में निवास पर यूआईडीएआई योजना के अन्तर्गत अपना नामांकन कराया।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने यूआईडीएआई योजनान्तर्गत करवाया पंजीयन

प्रदेश में फूड कूपन योजना का पंजीयन भी यूआईडीएआई के साथ करने की पहल
Bhopal: Wednesday, March 9, 2011:

--------------------------------------------------------------------------------


मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने यूआईडीएआई योजना के अंतर्गत आज निवास पर अपना नामांकन करवाया। नामांकन दल द्वारा मुख्यमंत्री श्री चौहान के बायोमेट्रिक डाटा जैसे फोटो, उंगलियों के निशान तथा आँख की पुतली का फोटो और डेमोग्राफिक डाटा के अतंर्गत जन्म-तिथि, निवास प्रमाण-पत्र, फोटो पहचान-पत्र जैसी अनिवार्य जानकारी एकत्रित की गई एवं सत्यापन कराया गया।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने यूआईडीएआई योजना के साथ ही फूड कूपन योजना में भी किसान के नाते अपना पंजीयन करवाया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने नामांकन प्रक्रिया की जानकारी ली। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री श्री चौहान के निर्देश पर प्रदेश में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के सुदृढ़ीकरण की दिशा में उपभोक्ताओं को फूड कूपन और ई-राशन कार्ड प्रदाय किये जाने की देश की एकमात्र योजना भी यूआईडीएआई के साथ शुरू की गई है।

इस अवसर पर प्रमुख सचिव खाद्य श्री आर.रामानुजम, सचिव सह आयुक्त खाद्य श्री अजीत केसरी, सचिव सह आयुक्त, कोष एवं लेखा श्री मनीष रस्तोगी एवं अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

प्रदेश सरकार द्वारा प्रथम चरण में फूड कूपन/आधार योजना प्रदेश के 5 जिलों क्रमश: होशंगाबाद, हरदा, बुरहानपुर, शाजापुर एवं देवास में संचालित है। शेष जिलों में भी चरणबद्ध तरीके से इसका विस्तार होगा। योजना के क्रियान्वयन से प्रचलित सार्वजनिक वितरण प्रणाली की कमियों यथा डुप्लीकेट/बोगस राशन कार्डों को निरस्त कर पात्र हितग्राहियों को निर्धारित मात्रा में खाद्यान्न एवं अन्य उपभोक्ता वस्तुएं उपलब्ध कराने में सहायता मिलेगी।

यूआईडीएआई (आधार) योजना अंतर्गत प्रदेश के सभी निवासियों को विशिष्ट पहचान नंबर उपलब्ध कराया जायेगा। इससे पहचान के अभाव में उनको शासकीय योजनाओं के लाभ से वंचित नहीं होना पड़ेगा। इसके अतिरिक्त हितग्राहियों को बैंक खाता खोलने, मोबाइल कनेक्शन लेने, स्कूल में बच्चों को प्रवेश दिलाने, रेल्वे यात्रा के दौरान ई-टिकट पर फोटो पहचान एवं शहर के होटलों में ठहरते समय फोटो पहचान सुगमता से सुलभ कराने में यह विशिष्ट पहचान नंबर सहायक होगा।

आज की स्थिति में होशंगाबाद जिले के सभी ब्लाकों/ तहसील में यह कार्य संचालित है। आज तक एक लाख 97 हजार 991 व्यक्तियों का नामांकन किया जा कर 74 हजार 654 व्यक्तियों को विशिष्ट पहचान नंबर जारी किए जा चुके हैं।

योजना अंतर्गत प्रदेश के निवासियों को शासन द्वारा निर्धारित किए गए पहचान केन्द्र जो सामान्यत: उचित मूल्य की दुकान अथवा स्कूल या पंचायत भवन जैसे सुलभ स्थानों पर जो उनके निवास स्थान के पास होंगे, पहुँचकर फोटो, आँख का फोटो एवं उंगलियों के निशान उपलब्ध करवाने होंगे तथा जन्म-तिथि, पता एवं पहचान प्रमाण जो शासन द्वारा 17 दस्तावेज यथा ड्राइविंग लायसेंस, बिजली का बिल, किसान क्रेडिट कार्ड इत्यादि में से किसी एक दस्तावेज के साथ केवल एक बार उपस्थित होना होगा। इसके बाद शासन द्वारा नवीन राशन कार्ड, वर्ष भर के 60 फूड कूपन तथा विशिष्ट पहचान नंबर निवासी के पते पर उपलब्ध करवाए जाएंगे।

राज्य शासन के अन्य विभाग जैसे शिक्षा विभाग, मनरेगा, आयुक्त कोष एवं लेखा को भी इस योजना में शामिल किया जा रहा है। आयुक्त कोष एवं लेखा के प्रस्ताव के आधार पर प्रदेश के विभिन्न श्रेणियों के लगभग 10 लाख शासकीय कर्मचारियों को फूड कूपन/आधार योजना का लाभ देने के उद्देश्य से नामांकन का कार्य प्रदेश के 6 अन्य जिलों भोपाल, जबलपुर, इंदौर, उज्जैन, छिंदवाड़ा एवं रतलाम में कार्य प्रारंभ किया गया है। यह कार्य प्रथम चरण के पूर्व में बताए गए 5 जिलों में भी चलेगा। भोपाल में आयुक्त कोष लेखा संचालनालय एवं आयुक्त खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण संचालनालय के समस्त कर्मचारियों एवं अधिकारियों का नामांकन कार्य पूर्ण किया जा चुका है।

Saturday, March 5, 2011

मध्य प्रदेश की फरार विधायक गिरफ्तार


मध्य प्रदेश की फरार विधायक गिरफ्तार


--------------------------------------------------------------------------------

हाईप्रोफाइल ड्रामे के तहत भाजपा से निलंबित विधायक आशारानी सिंह को भोपाल पुलिस ने मध्य प्रदेश विधानसभा के बाहर आज गिरफ्तार कर यहां के कोलार थाने में ले गई। छतरपुर जिले के बिजावर की भाजपा विधायक आशारानी सिंह अपने पति पूर्व विधायक अशोक वीर विक्रम सिंह उर्फ भैयाराजा के साथ नौकरानी तिज्जीबाई की हत्या के मामले में आरोपी हैं। भैयाराजा पहले से ही जेल में हैं।
आशारानी सिंह सुबह 10 बजे विधानसभा पहुंच गई थी, लेकिन पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार नहीं किया। वे सदन में भी मौजूद थीं। शून्यकाल में कांग्रेस विधायक डॉ. गोविंद सिंह ने आशारानी की मदद करने का अध्यक्ष से आग्रह किया, लेकिन अध्यक्ष ने डॉ. सिंह को यह मामला उठाने की इजाजत नहीं दी। आशारानी सदन में करीब एक घंटे रहने के बाद लॉबी में चली गईं। बाहर पुलिस उनका इंतजार कर रही थी। पुलिस विधानसभा परिसर से बाहर निकल रहे एक-एक वाहन की तलाशी ले रही थी। दोपहर एक बजे जैसे ही आशारानी आईं, उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। साठ दिन लगातार विधानसभा से बिना अनुमति अनुपस्थित रहने वाले विधायक की सदस्यता खत्म हो सकती है, इसी के चलते आशारानी सिंह विधानसभा पहुंची थीं। अब गिरफ्तारी के बावजूद उनकी विधायकी बची रह सकेगी। वे इसके पहले विधानसभा में प्रश्न लगाती रही हैं। पिछले साल उन्होंने सत्तापक्ष की सदस्य होने के बावजूद बजट में संशोधन प्रस्ताव विधानसभा सचिवालय भिजवा दिया था।
गौरतलब है कि फैशन डिजाइनिंग की छात्रा वसुंधरा बुंदेला की मौत के बाद जब उसके नाना यानी भैया राजा को हत्या की साजिश रचने के लिए पुलिस ने गिरफ्तार किया तो तिज्जो बाई की रहस्यमय हालात में हुई मौत की परतें भी खुलती चलीं गईं। पूर्व विधायक अशोक वीर विक्रम सिहं उर्फ भैया राजा का भोपाल का बंगला यशोदा परिसर में 21 जुलाई 2007 को तिज्जो बाई नाम की नौकरानी ने खुद को आग लगाकर खुदकुशी कर ली थी। पुलिस ने इस मामले को आत्महत्या मानकर मर्ग कायम किया था। विधायक आशारानी ने तिज्जी बाई को परिवार का सदस्य बताते हुए उसकी लाश उसके पति बिहारी और भाई फकीरा के सुपुर्द नही की थी। ठंडे बस्ते में पड़े इस मामलेहवा उस समय मिली जब वसुंधरा हत्याकांड में पुलिस ने भैयाराजा के नौकर भूपेंद्र उर्फ हल्के समेत अन्य आरोपियों से पूछताछ की तो चौंकाने वाले तत्थ सामने आए। मर्ग डायरी की दोबारा जांच शुरू की गई। इसी दौरान तिज्जी के पति बिहारी और फकीरा को तलाशा और उनसे पूछताछ की। बिहारी और फकीरा के बयानों में सामने आया कि आशारानी दो बार तिज्जीबाई का अपहरण करके उसे यशोदा परिसर लाई थी। उसके बाद तिज्जी बाई किसी से भी नही मिल सकती थी। भाई और पति मिलने जाते तो उन्हें मारपीट कर भगा दिया जाता था। पुलिस ने पति और भाई के अदालत में 164 के बयान भी दर्ज कराए। वसुंधरा हत्याकांड के आरोपियों ने भी पुलिस को बताया था कि भैयाराजा द्वारा तिज्जीबाई का यौन शोषण किया जाता था। यह बात पति और भाई के बयानों में भी सामने आई थी। मर्ग की जांच विवेचना प्रकोष्ठ के प्रभारी एएसपी एके पांडे को सौंपी गई थी। एएसपी श्री पांडे ने जांच पूरी कर रिपोर्ट एसएसपी आदर्श कटियार के सुपुर्द कर दी थी। जिसके आधार पर कोलार पुलिस ने विधायक आशारानी, भैयाराजा और उनके सहयोगी बहोरी दहाइत, कन्हैयालाल दुबे, गोपाल सिंह ठाकुर, नर्मदा पाठक, मिजाजी ढीमर और ड्राइवर ख्वाजा के खिलाफ अपहरण, बंधक बनाकर रखना, दुष्कृत्य और आत्महत्या के लिए प्रेरित करने पर 363, 366, 367, 368, 344, 374, 376, 193, 120-बी, 306 और 34 की धारा प्रकरण दर्ज किया था। आरोपियों ने 1993 से 2007 तक तिज्जी बाई को बंधक बनाकर रखा और प्रताडऩाएं दी थी। तिज्जीबाई के मर्ग की केस डायरी जब वरिष्ठ अधिकारियों ने तलब की तो उसमें दो पन्ने फटे हुए थे। वरिष्ठ अधिकारियों का कहना है कि केस डायरी के पन्ने फटे होने में टीआई कोलार चंदन सिंह सूरमा की भूमिका संदिग्ध है।
बीजेपी की विधायक आशारानी सिंह ने तीन साल पहले पुलिस को लिखकर बयान दिया था कि तिज्जो बाई के आगे पीछे कोई नहीं है। लेकिन तिज्जोबाई के दूसरे पति दादी ढीमर और भाई फकीरा के सामने आ जाने से एक नया मोड़ ले लिया। बताया जा रहा है कि दोनों बेबस हैं और तिज्जो बाई की मौत का सदमा आज तक झेल रहे हैं। इन लोगों को तो तिज्जो बाई की मौत की खबर तक नहीं दी गई थी। वहीं आशारानी इसे साजिश बताकर इन अल्फाजों में अपनी सफाई दे रही थी। लेकिन सवाल ये है कि बाहुबली भैया राजा और उनकी पत्नी के खिलाफ किस हद तक कार्रवाई हो पाती है ये देखने वाली बात होगी।
जांच के बाद दी गई रिपोर्ट में इस बात का भी खुलासा हुआ था कि तिज्जी बाई का अपहरण वर्ष 1993 में हुआ था और उसे अवैध ढंग से वर्ष 2005 में भैया राजा के फार्म हाउस में रखा गया, जहां पर उसके साथ भैया राजा द्वारा दुष्कृत्य किया जाता था। वर्ष 2005 में तिज्जी बाई आरोपी विधायक के भोपाल स्थित घर से भागकर दिल्ली चली गई और वहां पर बिहारी ढीमर नामक युवक के साथ रहने लगी। दोनों के वापस लौटने की जानकारी मिलने पर भैया राजा और उसकी पत्नी ने कुछ बाहुबलियों को भेजकर उसका अपहरण करा लिया। बाद में भैया राजा और उसकी पत्नी आशारानी सिंह से तंग आकर तिज्जी बाई ने 21 मई 2007 को आत्महत्या कर ली थी। पुलिस ने भैया राजा, उसकी पत्नी आशारानी सिंह व अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया था। पूर्व में 11 मार्च 2010 को हाईकोर्ट से अग्रिम जमानत अर्जी खारिज होने के बाद फरार भाजपा विधायक आशारानी सिंह की ओर से दूसरी अर्जी दायर की गई थी उसे भी कोर्ट ने खारिज कर दिया था।

मध्य प्रदेश में केवल भैयाराजा और आशारानी ही नहीं बल्कि अन्य कई विधायक ऐसे हैं जिनके खिलाफ धोखाधड़ी से लेकर हत्या तक के प्रकरण दर्ज हैं। उदाहरण देखिए, विधानसभा उपाध्यक्ष हरवंश सिंह तथा डबरा क्षेत्र की महिला विधायक इमरती देवी के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला कायम है।
बिजावर की विधायक आशारानी सिंह अपहरण, बलात्कार में सहयोग तथा आत्महत्या को मजबूर करने की आरोपी हैं,तो सीहोर के रमेश सक्सेना, डिण्डोरी के ओमकार सिंह, खुरई के अरुणोदय चौबे, बंडा के नारायण प्रजापति, गाडरवारा की साधना स्थापक तथा डा. कल्पना पारुलेकर के खिलाफ बलवा, तोडफ़ोड़ तथा आगजनी जैसे गंभीर अपराध पर एफआईआर दर्ज है। टीकमगढ़ जिले के प्रथ्वीपुर से विधायक बृजेंद्र सिंह राठौर पर हत्या और हत्या के प्रयास सहित 4 आपराधिक प्रकरण कायम हैं। इस तरह विधानसभा के 230 में से 48 सदस्य ऐसे हैं, जिनके खिलाफ विभिन्न थानों में अलग-अलग धाराओं में अपराध पंजीबद्ध हैं। इनमें से 18 माननीयों के खिलाफ गंभीर वारदातों को अंजाम देने के आरोप हैं। राज्य मंत्रिमंडल के दो सदस्यों के खिलाफ भी आपराधिक प्रकरण कायम हैं। महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री रंजना बघेल के खिलाफ धारा 323, 506 बी के तहत प्रकरण कायम है, जबकि सहकारिता मंत्री डा. गौरीशंकर बिसेन धारा 188 के तहत प्रकरण दर्ज है। रंजना के खिलाफ प्रकरण चालान तैयार है, लेकिन न्यायालय में प्रस्तुत नहीं किया गया, जबकि श्री बिसेन के खिलाफ प्रकरण न्यायालय में विचाराधीन है। इसके अलावा एक पूर्व मंत्री अनूप मिश्रा के खिलाफ भी धारा 188 तथा 126 जन प्रतिनिधि अधिनियम के तहत मामला कायम है। यह प्रकरण अभी विवेचना में है।धारा 188 के आरोपी हैं ये विधायक
सत्यनारायण पटेल, यशपाल सिंह सिसौदिया, जितेंद्र डागा, बाला बच्चन, माखन लाल जाटव, डा. कल्पना पारुलेकर।
इनके खिलाफ हुई धारा 151 की कार्रवाई
विश्वास सारंग, जमुना देवी, अजय सिंह, हुकुम सिंह कराड़ा, उमंग सिंगार, केपी सिंह, सुखदेव पांसे, दिलीप सिंह, प्रियवृत सिंह, निशिथ पटेल, तुलसी सिलावट, यादवेंद्र सिंह, बाल सिंह मेड़ा, प्रताप ग्रेवाल, ओमकार सिंह, अजय यादव, लक्ष्मण तिवारी, रेखा यादव।

Friday, March 4, 2011

राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल, प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह, उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी सहित कई नेता


राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल, प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह, उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी सहित कई नेताओं ने वरिष्ठ कांग्रेसी नेता अर्जुनसिंह के निधन पर शोक जताया है और उन्हें ‘ऊँचे व्यक्तित्व’ वाला व्यक्ति बताया है।

अपने शोक संदेह में पाटिल ने कहा कि सिंह मध्यप्रदेश के तीन बार मुख्यमंत्री रहने के साथ ही पंजाब के उस समय राज्यपाल रहे, जब यह राज्य मुश्किल दौर में था। राष्ट्रपति ने कहा कि संसदीय बहस में सिंह के योगदान का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि उन्हें 2000 में सर्वश्रेष्ठ सांसद का पुरस्कार दिया गया। देश और मध्यप्रदेश ने आज एक ऊँचे कद वाले व्यक्तित्व को खो दिया है।

प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह ने अर्जुनसिंह की मृत्यु पर गहरा शोक प्रकट करते हुए कहा कि वे एक सक्षम प्रशासक, अनुभवी व्यवस्थापक और लोगों के साथ मजबूत रिश्ते वाले नेता थे। उन्होंने अपने समय में मानव संसाधन विकास जैसे महत्वपूर्ण मंत्रालय का जिम्मा संभाला।

उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने भी सिंह के निधन पर गहरा शोक प्रकट किया। भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और राजनाथसिंह ने भी अपनी संवेदनाएँ प्रकट कीं। आडवाणी ने एक बयान में कहा कि अर्जुनसिंह की मृत्यु की खबर सुनकर मैं बहुत दुखी हूँ। उनकी मृत्यु से भारतीय राजनीति ने एक ऐसी हस्ती को खो दिया है, जिन्होंने अपने सार्वजनिक जीवन में कई उत्तरदायित्वों का निर्वाह किया और मध्यप्रदेश और देश की सेवा की।

अपने शोक संदेश में रेलमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि देश ने आज एक महान नेता को खो दिया है, जिसने समाज के निचले तबके लिए बहुत कुछ किया था। इस्पात राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बेनी प्रसाद वर्मा ने सिंह की पत्नी सरोजदेवी को संबोधित करते हुए अपने शोक संदेश में कहा कि सिंह की मौत के बाद देश की राजनीति में एक खाली स्थान पैदा हो गया है। कांग्रेस पार्टी और देश के निर्माण में उनकी महत्ता अविस्मरणीय और अपूरणीय है।

कानून मंत्री वीरप्पा मोइली, तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम. करुणानिधि, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेंद्रसिंह हुड्डा और उत्तरप्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती ने भी अर्जुन सिंह की मृत्यु पर अपना शोक प्रकट किया है।
लोक जनशक्ति पार्टी प्रधान रामविलास पासवान ने अपने शोक संदेश में कहा कि सिंह की मौत के बाद राजनीति में मैंने अपना अभिभावक और मार्गदर्शक खो दिया है। दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने कहा कि सिंह के निधन से कांग्रेस ने अपना एक अनुभवी नेता खो दिया है।

जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव ने सिंह के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए कहा कि उन्होंने गरीबों के उत्थान के लिए बहुत काम किया। संसदीय कार्य मंत्री पवन कुमार बंसल ने सिंह के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि उनके निधन से जो क्षति हुई है, उसकी भरपाई नहीं हो सकती।

मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुरेश पचौरी ने कहा कि सिंह का निधन एक अपूरणीय क्षति है। उन्होंने कहा कि भारतीय राजनीति और कांग्रेस पार्टी के व्यापक हितों में अर्जुनसिंह ने हमेशा अपना स्पष्ट मंतव्य रखा।

कांग्रेस महासचिव एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह ने सिंह के निधन पर गहरा दुख प्रकट करते हुए इसे अपनी व्यक्तिगत क्षति बताया है। सिंह ने कहा कि सार्वजनिक जीवन में जनसेवा का पाठ उन्होंने अर्जुनसिंह से ही सीखा है।

उन्होने कहा कि गरीबों, पिछड़ों और असहाय लोगों के दुख-दर्द दूर करने के लिए उनका दिल हमेशा धड़कता रहता था। इस दिशा में प्रदेश में तेंदू पत्ता संग्राहक आदिवासियों के लिए इस व्यापार के सहकारीकरण तथा झुग्गीवासियों को पट्टे देने के ऐतिहासिक कदम के लिए उनके योगदान को सदा याद किया जाता रहेगा।

फेल की धमकी दे रात की कक्षा में बुलाई जाती थीं छात्राएं


जबलपुर. मेडिकल सेक्स स्कैंडल मामले में हिरासत में लिये गये राजू खान, उपकुलसचिव रवीन्द्र काकोड़िया व परीक्षा नियंत्रक राणा को आज विशेष अदालत में पेश किया गया।

इस मामले में राजू खान व काकोड़िया से कई अहम मामलों में पूछताछ की जाने की दलील देकर उन्हें रिमांड पर ले लिया गया,वहीं इस मामले में परीक्षा नियंत्रक राणा से पूछताछ पूरी होने का हवाला दिये जाने पर उन्हें न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया।

सूत्रों के अनुसार इस मामले में अब सबसे अहम कड़ी प्रेरणा ओटवाल व अजय खंडेलवाल बताये जा रहे हैं। पुलिस अब इनको खोजने में जुट गयी है। सूत्रों के अनुसार राजू खान के समर्पण के बाद से उससे लगातार पूछताछ की जा रही है और उसने कई ऐसे राज उगले हैं, जिसमें प्रेरणा और अजय खंडेलवाल की भूमिका बराबरी की रहती थी।

इनकी रादुविवि में गहरी पैठ थी और अपने संपर्को के जरिये विवि के गोपनीय विभाग की हर गतिविधियों पर नजर रहती थी। सूत्रों के अनुसार जांच में कुछ सबूत ऐसे मिले, जिससे यह पता चला है कि मुख्य परीक्षा और पुनमरूल्यांकन व पुनर्गणना की कॉपियां हेराफेरी कर बदल दी जाती थीं। इस तरह के प्रकरण में इलाहाबाद,इंदौर व जबलपुर के कुछ छात्रों को लाभ दिलाया जाना उजागर हुआ है।

जांच में जुटे अधिकारियों का कहना है कि इस स्कैंडल में अब प्रेरणा और अजय खंडेलवाल की गिरफ्तारी के लिये कई स्थानों पर दबिश दी गयी, लेकिन पुलिस को सफलता नहीं मिल पायी है।

पांच साल का रिकार्ड मांगा

सूत्रों के अनुसार पूछताछ में यह उजागर हुआ है कि गिरोह द्वारा विगत पांच वर्ष से अधिक समय से यह गोरखधंधा संचालित हो रहा था, इस जानकारी के बाद रिकार्ड खंगालने के लिये जांच टीम ने रादुविवि के परीक्षा विभाग का पांच वर्ष का रिकार्ड मांगा है। इस मामले में पुलिस टीम ने कुछ अन्य लोगों से भी पूछताछ कर महत्वपूर्ण जानकारियां जुटाई हैं।

प्रेरणा ने भी वसूली रकम

सूत्रों के अनुसार राजू खान व अन्य से की गयी पूछताछ में इस बात का खुलासा हुआ है कि राजू खान और प्रेरणा इस कारोबार के मुख्य सरगना थे और प्रेरणा भी इस कमाई का हिस्सा खाने में पीछे नहीं थी।

प्रेरणा ने कई छात्राओं को पास कराया और उनसे मिली रकम हजम कर ली। उसने एक बार आत्महत्या की कोशिश भी की थी। इन जानकारियों के आधार पर अब प्रेरणा के संबंधों का भी पता लगाया जा रहा है।

दीपा भी पीछे नहीं रही- इस मामले में पूछताछ के लिये बुलायी गयी मेडिकल छात्रा दीपा ठाकुर को महिला थाने ले जाकर उससे पूछताछ की गयी।

सूत्रों के अनुसार उसने स्वीकार किया कि वह भी प्रेरणा की तर्ज पर छात्राओं को लाने ले जाने का कार्य करती थी। छात्राओं को पास कराने के लिये प्रेरणा की तरह दबाव बनाकर अजय के पास पहुंचाती थी।

गृह नगर से हासिल करने हैं दस्तावेज

पुलिस रिमांड बढ़ाने के लिये जिला अदालत के समक्ष जिला अभियोजन अधिकारी ने तर्क रखा कि आरोपी राजू खान से अहम दस्तावेज बरामद हुए हैं, लेकिन अभी उसके गृह नगर भिण्ड से और दस्तावेजों की बरामदगी होना बाकी है।

जेएमएफसी सुशीला वर्मा के समक्ष उन्होंने कहा कि आरोपी को बचाने के लिये उसकी अस्वस्थता का सहारा लिया जा रहा है। श्री सराफ ने मेडिकल रिपोर्ट का हवाला देने के बाद कहा कि यदि आरोपी की तबियत बिगड़ती है तो शासन द्वारा उसका समुचित उपचार कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि इसी तरह रवीन्द्र सिंह काकोड़िया से भी पूछताछ बाकी है।

अदालत ने तर्को को सुनने के बाद दोनों आरोपियों की 6 मार्च तक के लिये रिमांड बढ़ा दी। इधर तीसरे आरोपी एसएस राणा की जमानत अर्जी खारिज करते हुए कोर्ट ने न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया।

रात में लगती थी क्लास

राजू खान ने स्वीकार किया कि मेडिकल वार्डन मीता श्रीवास्तव के पति एसके श्रीवास्तव रात में कक्षाएं लगाते थे। राजू ने अपने बयान में बताया है कि पहले छात्राओं को प्रैक्टिकल में फेल होने की धमकी दी जाती थी और फिर उन्हे रात की कक्षाओं में बुलाया जाता था।

पूर्व मंत्री से संबंध उजागर- पूछताछ में यह पता चला है कि मामले में फरार अजय खंडेलवाल के जिले के एक पूर्व मंत्री के अलावा एक पूर्व केन्द्रीय मंत्री व एक वर्तमान मंत्री से संबंध थे। आधा दर्जन पुलिस अधिकारियों के नाम भी सामने आये हैं।

अधिकारी को धमकाया था- जांच में पता चला है राजनैतिक व प्रशासनिक संबंधों का लाभ लेते हुए अजय ने रिवाल्वर का लायसेंस ले लिया था और वह मौका पड़ते ही किसी को भी धमकाने से चूकता नहीं था। टैक्स संबंधी एक मामले में उसने एक इंकम टैक्स अधिकारी को धमकाया था, लेकिन मामला दर्ज नहीं हो सका था।

दीपा पर फिदा था..- पूछताछ में यह बात सामने आयी है कि अजय खंडेलवाल की दीपा से नजदीकियां थीं और वह उसे अपनी कार में लेकर धूमता था, इतना ही नहीं उसने उसे एक स्कूटी और सोने की चेन उपहार में दी थी।

फरार घोषित कर देंगे,संपत्ति कुर्क की जाएगी फरार आरोपियों की

सेक्स स्कैंडल मामले में अजय व प्रेरणा की भूमिका महत्वपूर्ण नजर आ रही है और उनकी गिरफ्तारी नहीं होने से जांच प्रभावित हो रही है, अगर दो-तीन दिनों में दोनों नहीं मिलते तो उन्हें फरार घोषित कर संपत्ति कुर्की की कार्यवाही की जा सकती है।

व्ही.मधुकुमार,आईजी

सेक्स स्कैंडल के फरार आरोपी पर ईनाम घोषित

जबलपुर। मेडिकल कॉलेज सैक्स स्कैंडल मामले में पुलिस ने आज पूरे दिन रादुविवि में जांच पड़ताल की, इस दौरान कुछ कर्मचारियों की भूमिका उजागर होने पर उनकी तलाश में पुलिस ने कुछ स्थानों पर दबिश दी, लेकिन पुलिस के हाथ खाली रहे।

उधर इस मामले में फरार आरोपी अजय खंडेलवाल की गिरफ्तारी के लिए एसपी ने तीन हजार रुपये का ईनाम घोषित कर दिया है। विवेचना के दौरान राजू खान के साथ अजय खंडेलवाल, निवासी मढ़ाताल का घटना में शामिल होना एवं फरार होना पाया गया है।

अजय खंडेलवाल की गिरफ्तारी हेतु कई स्थानों पर दबिश दी गई। गिरफ्तारी न हो पाने के कारण एसपी संतोष कुमार सिंह ने उसकी गिरफ्तारी पर 3 हजार रुपये का ईनाम घोषित कर दिया है।



एक अधिकारी के आरोपी राजू खान से संबंध होने की बात सामने आने पर जांच टीम बदल दी गई है। अब जांच का जिम्मा एएसपी क्राइम अशोक शुक्ला, डीएसपी अजाक जेडी भोसले, टीआई गढ़ा जयंत टेंमरे, टीआई गोहलपुर आरडी भारद्वाज, महिला थाना प्रभारी रूचिता चतुर्वेदी को जांच टीम में शामिल किया गया है। इस मामले की जांच में जरूरत के हिसाब से अन्य अधिकारियों से कार्य कराया जा सकता है।
सोमवार तक प्रतिवेदन दे पुलिस

मेडिकल कॉलेज के सेक्स स्कैण्डल में घिरे अजय खण्डेलवाल ने आज जिला अदालत में अग्रिम जमानत अर्जी के लिए आवेदन प्रस्तुत किया। जिला न्यायाधीश जेके जैन की अदालत ने अभियोजन पक्ष को सोमवार तक प्रतिवेदन पेश करने के निर्देश दिये हैं।

मामले की अगली सुनवाई सोमवार को विशेष न्यायाधीश अंजुली पालो की कोर्ट में होगी। मेडिकल मामले में आज अजय खण्डेलवाल के अधिवक्ता ने अग्रिम जमानत लाभ प्रदान करने का आवेदन प्रस्तुत किया। कोर्ट ने मामले पर सुनवाई करते हुए गढ़ा पुलिस को निर्देशित किया है कि सोमवार तक प्रकरण का विस्तृत प्रतिवेदन प्रस्तुत किया जाए। शासन की ओर से अधिवक्ता अशोक पटेल उपस्थित हुए।


छात्र-छात्राओं को एमबीबीएस में पास कराने के बदले धन और अस्मत मांगने के मामले में एडीशनल कलेक्टर मनीषा सेतिया, डॉ. शशि खरे, डॉ. पुष्पा किरार ने जो जांच रिपोर्ट तैयार की थी, वह अब आईजी व्ही मधुकुमार को सौंपी गई है।

कमेटी के तीन सदस्यों ने दस दिनों तक जांच की और मुख्य आरोपी प्रेरणा ओटवाल न मिलने पर उस बिंदु को छोड़कर जांच रिपोर्ट संभागायुक्त को सौंप दी गई। इस रिपोर्ट के बाद कुछ लोगों पर जल्द ही मामले दर्ज हो सकते हैं।

आज पुलिस दल इसी को लेकर मेडिकल में पहुंचने वाला था, लेकिन यह दल विवि में ही कार्रवाई में व्यस्त रहा। अब शुक्रवार को पुलिस टीम मेडिकल पहुंचेगी।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अर्जुन सिंह का दिल का दौरा पड़ने से निधन


नई दिल्ली. ८१ साल की उम्र में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अर्जुन सिंह का निधन हो गया है। पूर्व मानव संसाधन मंत्री और मध्य प्रदेश के दो बार मुख्यमंत्री रहे अर्जुन सिंह को कुछ दिनों पहले ही सीने में दर्द की शिकायत के बाद अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में दाखिल कराया गया था। शुक्रवार को अर्जुन सिंह ने शाम साढ़े पांच बजे सांस लेने में तकलीफ होने की शिकायत की। उन्हें दिल का दौरा पड़ा और शाम करीब सवा छह बजे उन्होंने अंतिम सांसें लीं।

कांग्रेस के विवादास्पद नेता रहे अर्जुन सिंह को राजीव गांधी का करीबी माना जाता था। भोपाल गैस कांड के समय अर्जुन सिंह मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री थे।अर्जुन सिंह की मौत के साथ ही भोपाल गैस कांड के आरोपी वॉरेन एंडरसन के भारत छोड़ने की वजहों और परिस्थितियों पर हमेशा के लिए पर्दा गिर गया है।

करीब छह दशकों तक देश की राजनीति में सक्रिय रहे कांग्रेस के दिग्गज नेता अर्जुन सिंह पिछले कई सालों से खराब सेहत से जूझ रहे थे। अर्जुन सिंह ने १९५७ में मध्य प्रदेश विधानसभा सदस्य के तौर पर अपने लंबे राजनैतिक जीवन की शुरुआत की थी। 5 नवंबर, 1930 को मध्य प्रदेश में उनका जन्म हुआ था। ८० के दशक में वे कांग्रेस के उपाध्यक्ष भी रहे और उग्रवाद के दौर में वे पंजाब के राज्यपाल भी रहे थे। राजीव गांधी और लोंगोवाल के बीच हुए समझौते में अर्जुन सिंह की अहम भूमिका थी। १९९२ में बाबरी मस्जिद विध्वंस के बाद उन्होंने तत्कालीन प्रधानमंत्री नरसिंह राव की कैबिनेट और कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था। हालांकि, वे बाद में पार्टी में लौट आए थे। अर्जुन सिंह के मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर कार्यकाल के दौरान चंबल के कई कुख्यात डाकुओं ने हथियार डाले थे।

यह संयोग ही है कि कांग्रेस ने नीति बनाने वाली अपनी सर्वोच्च संस्था कांग्रेस वर्किंग कमेटी से उन्हें हटाकर स्थायी आमंत्रित सदस्य बनाने का फैसला शुक्रवार को ही लिया था। अर्जुन सिंह अपने पीछे पत्नी सरोज देवी, दो बेटों-अजय सिंह और अभिमन्यु के अलावा बेटी वीणा को छोड़ गए हैं। अजय सिंह मध्य प्रदेश विधानसभा के सदस्य हैं।

नसबंदी कराओ मोटरसाइकिल पाओ!

नसबंदी कराओ मोटरसाइकिल पाओ!
भोपाल, 4 मार्च 2011। अगर आप मोटरसाइकिल की सवारी करना चाहते हैं और इसमें आर्थिक संकट आड़े आ रहा है तो आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है, बस इसके लिए आपको 25 से ज्यादा लोगों की नसबंदी करानी होगी। ऐसा करने में सफल रहे तो आपके लिए मोटरसाइकिल की सवारी भी आसान हो जाएगी।
मध्य प्रदेश सरकार वर्ष 2010-11 को परिवार कल्याण वर्ष के रूप मे मना रही है। इसी के चलते हर जिले को कुछ लक्ष्य दिए गए हैं। सरकार द्वारा तय लक्ष्य हासिल करना जिला प्रशासन के लिए मुसीबत बन गया है, इसीलिए हर जिले में इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए कई लुभावनी योजनाएं बनाई गई हैं। कहीं बंदूक के लाइसेंस दिए जा रहे हैं तो कहीं मोटरसाइकिल और कपड़े बांटे जा रहे हैं।
पन्ना जिले में भी एक मार्च से छह मार्च तक नसबंदी का महा अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के दौरान ज्यादा से ज्यादा ऑपरेशन कराने को प्रोत्साहित करने के लिए जिला प्रशासन ने लुभावनी योजना बनाई है। इसके मुताबिक 25 से ज्यादा लोगों के ऑपरेशन कराने वाले को मुफ्त में हीरो होंडा मोटरसाइकिल दी जाएगी। इसी तरह 20 से ज्यादा लोगों के लिए एलसीडी टीवी, 10 से ज्यादा पर टीवी, पांच से ज्यादा पर प्रशस्ति पत्र व शाल, श्रीफल दिया जाएगा।
इस योजना में हितग्राहियों का भी ध्यान रखा गया है, उनको भी इनाम दिए जाएगें। इसके लिए छह मार्च के बाद प्रत्येक विकास खंड में लाटरी के जरिए पांच-पांच विजेताओं को प्रेशर कुकर दिए जाएंगे।
यह योजना नसबंदी के प्रति लोगो में प्रोत्साहन लाने के लिए बनाई गई है। वह इन कोशिशों की वजह सरकार द्वारा तय किए गए लक्ष्य को हासिल करने में आ रही कठिनाईयों को मानने को तैयार नही हैं।यहां हम आपको बता दें कि पन्ना जिले में 10750 लोगों की नसबंदी का लक्ष्य दिया गया है, मगर अभी तक 8500 ऑपरेशन ही हुए हैं। जिला लक्ष्य हासिल करने से अभी लगभग 20 प्रतिशत दूर है।प्रदेश में नसबंदी को प्रोत्साहित करने की यह पहली पुरस्कार योजना नहीं है, भोपाल में भी प्रोत्साहन पुरस्कार का एलान किए जाने के साथ हितग्राहियों को कपड़े भी दिए जा रहे हैं। इसी तरह सागर के कलेक्टर मनीष श्रीवास्तव ने पांच नसबंदी ऑपरेशन कराने वाले को बंदूक का लाइसेंस देने में प्राथमिकता देने की योजना शुरू की है।

रात में लगती थी भावी डाक्टरों की क्लास

Mar 04, 12:01 जबलपुर। किस्मत के बदले अस्मत प्रकरण में आरोपियों से पूछताछ में पता चला है कि मेडिकल कॉलेज के एटॉनोमी विभागाध्यक्ष एवं पूर्व हॉस्टल वॉर्डन डॉ.मीता श्रीवास्तव के पति डॉ.एसके श्रीवास्तव कभी मेडिकल कॉलेज पर तो कभी घर पर रात के वक्त छात्राओं की क्लास लेते थे। कई बार ये कक्षाएं देर रात तक भी चलीं। पुलिस यह जानने में जुटी है कि देर रात तक कक्षाएं क्यों चलती थीं और इसमें केवल छात्राओं को ही क्यों बुलाया जाता था।

पुलिस सूत्रों के अनुसार रात की कक्षाओं के दौरान कुछ चुनिंदा छात्राओं को कोर्स की वे किताबें या अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराई जाती थीं, जो आम छात्राओं को मिलना मुश्किल रहता था। सूत्रों का यह भी कहना है कि रात में लगने वाली क्लास के दौरान ही छात्राओं के पास-फेल कराने की बातें होती थी।

प्रेरणा ने मेडिकल छात्रा दीपा ठाकुर को राजू से मिलवाया। कुछ दिनों बाद दीपा भी राजू की करीबी हो गई। पुलिस को इस बात के सुराग लगे हैं कि दीपा भी अजय खण्डेलवाल की तर्ज पर मेडिकल छात्रावास से छात्राओं को बाहर ले जाने का काम करतीं थी। इसके लिए राजू ने दीपा को एक कार भी मुहैया कराई थी। दीपा ने कई छात्राओं से पास कराने के नाम पर मोटी रकम ऐंठी।

पुलिस ने तीनों आरोपियों की निशानदेही पर करीब दस लोगों से पूछताछ की। इनमें से कुछ लोग अब भी थानों में हैं। एसपी संतोष सिंह ने गढ़ा थाने में जाच की समीक्षा की। तीनों आरोपियों से मिले सुरागों की बिंदुवार जानकारी ली, और कई दिशा-निर्देश दिए।

जाच कमेटी ने प्रकरण की मुख्य आरोपी प्रेरणा अटवाल के बयान नहीं ले पाई, क्योंकि प्रेरणा फरार है। इसके चलते जानकारों ने रिपोर्ट को अधूरा करार दिया है। उनका कहना है कि प्रेरणा के बयान के बिना व्यवहारिक रूप से जाच को पूर्ण नहीं माना जा सकता। न्यायालय में यह रिपोर्ट एकतरफा जाच के कारण खारिज हो सकती है। जूनियर डॉक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. अशोक ठाकुर का कहना है कि कमेटी से प्रेरणा के भी बयान दर्ज करने की माग की जाएगी।

पुलिस ने राजू के मोबाइल की कॉल डिटेल की जाच शुरू कर दी। इसमें भी कई अहम सुराग हाथ लगे हैं। सूत्रों के अनुसार राजू के मोबाइल की फोन बुक में कई बडे़ राजनेताओं, पुलिस अधिकारियों, रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय व मेडिकल के अधिकारियों के मोबाइल नंबर हैं। लेकिन पुलिस नामों का खुलासा नहीं कर रही है।

पुलिस को प्रेरणा अटवाल, अनिल सिंह, नागेन्द्र सिंह व अजय खण्डेलवाल का सुराग नहीं लग पाया है। पुलिस तीनों की गिरफ्तारी के लिए लगातार प्रयास कर रही है।

पास-फेल के बदले छात्राओं की इज्ज्त की सौदेबाजी

4-3-2011पास-फेल के बदले छात्राओं की इज्ज्त की सौदेबाजी
परीक्षा में पास होने के लिए छात्राओं को अपनी इज्जत का सौदा करना पड़ता था. जबलपुर के सरकारी मेडिकल कॉलेज की एक छात्रा ने ये सनसनीखेज खुलासा किया है. इस खुलासे के बाद पुलिस ने शहर के तीन सफेदपोशों को गिरफ्तार किया है.

जबलपुर के सरकारी मेडिकल कॉलेज के छात्र भड़के हुए हैं. परीक्षा में पास-फेल के बदले छात्राओं की इज्ज्त की सौदेबाजी की खबर के बाद यहां हंगाम मचा हुआ है. कॉलेज की एक छात्रा के खुलासे के बाद कॉलेज और शहर के कई सफेदपोश अब गिरफ्त में हैं.

एक छात्रा के इस खुलासे से सनसनी फैल गई कि कॉलेज में नंबरों में हेराफेरी के नाम पर छात्राओं को जिस्मफरोशी के लिए मजबूर किया जा रहा था. छात्रा ने आरोप लगाया कि इस शर्मनाक धंधे में जबलपुर की रानी दुर्गावती यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर और परीक्षा नियंत्रक एस एस राणा और सहायक कुलसचिव रवींद्र ककोडिया भी शामिल हैं. जबकि इस गिरोह का सरगना राजू खान नाम का शख्स है.

इस गिरोह के लिए छात्राओं को फंसाने का काम करने वाली मेडीकल कालेज की ही एक अन्य छात्रा के साथ, एक फर्नीचर व्यापारी और होटल मालिक की तलाश की जा रही है

श्रीमती पटेरिया के बयान से बौखलाई गोंडवाना


विधायिका श्रीमती नीता पटेरिया यह भी कह रही हैं कि कौन से मुझे इस क्षेत्र से वोट मिले थे। वहीं कौन आदिवासियों ने मुझे वोट दिया है आदिवासियों ने वोट तो गोंगपा, मुनमुन राय, व कांग्रेस को दिया था। वहंीं हमारे नेता डॉ. बिसेन भी आदिवासियों के वोट नहीं मिल पाने के कारण हार गये और तो और भाजपा में जो भी आदिवासी नेता आये हेैं वे सभी किसी दूसरी पार्टी से आये हैं या फिर स्वार्थ वस पार्टी में आये हैं ।

सिवनी सिवनी विधानसभा क्षेत्र की विधायक श्रीमती नीता पटेरिया ने बैठे-बिठाये गोंडवाना गणतंत्र पार्टी को भारतीय जनता पार्टी सरकार के विरोध में बोलने के लिए एक जबरदस्त मुद्दा दे दिया है। उन्होने पिछले दिनों मृतक राकेश बरकड़े की आत्महत्या के पश्चात जो बयानबाजी कर बरैया के छत्ते में मानो पत्थर मार दिया है। गोंडवाना गणतंत्र पार्टी ने श्रीमती पटेरिया के बयान के विरोध में जबरदस्त विरोध प्रदर्शन का माहौल तैयार कर लिया है। आदिवासी समाज के व्यक्ति श्रीमती पटेरिया के बयान को सारी जाति का अपमान मान रहे हैं। पूरे जिले मेें आदिवासियों के बीच श्रीमती पटेरिया का बयान चर्चा का विषय बना हुआ है। हालांकि यह पहला अवसर नहीं है,जब श्रीमती पटेरिया अपनी ऊलजलूल बयानबाजी से पूरी पार्टी को परेशानी में डाला हो। इसके पूर्व भी वे या उनके वरदहस्तों द्वारा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के लिए परेशानियां खड़ी करते रहे हैं। सांसद रहते हुए एक सिवनी जिले के आदिवासी की लाश तत्कालीन सांसद रहीं श्रीमती पटेरिया द्वारा कोई मदद आश्वासन देने के पश्चात भी न करने के कारण सड़ते रही और मृतक के परिजनों ने मजबूरन उसे दिल्ली में ही दफन किया था। वह घटना भी फिर से ताजा हो गई है। अभी हाल ही में सिवनी विधानसभा क्षेत्र के थांवरी नामक गांव में एक आदिवासी कृषक द्वारा आत्महत्या कर ली गई है। इस कृषक आत्महत्या को घाटे की कृषि के कारण आत्महत्या न होना बताने का सत्ताधारी दल की विधायक और प्रशासन द्वारा भरसक प्रयास किया जा रहा है। गोंडवाना गणतंत्र पार्टी श्रीमती नीता पटेरिया के व्यवहार को और बर्ताव को आदिवासी विरोधी मान रहे हैं। गोंडवाना का आरोप है कि नीता पटेरिया ने यहां तक कहा है कि भाजपा को आदिवासियों का कौन सा वोट मिलता है। आदिवासियों ने गोंडवाना, मुनमुन राय और कांग्रेस को वोट दिया था,हमें तो कोई वोट मिले ही नहीं। आदिवासियों का वोट अगर भाजपा को मिल जाता तो डॉक्टर ढालसिंह बिसेन जी जीत जाते गोंगपा का ऐंसा आरोप है कि यह बात श्रीमती नीता पटेरिया ने कही है। हालांकि यह बात नीता पटेरिया ने अवश्य कही है और विज्ञप्ति भी जारी हुई है कि आत्महत्या करने वाला किसान महत्वकांक्षी था उसने आत्महत्या कृषि में हुई नुकसानी के कारण नहीं अन्य कारणों से की है। गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के द्वारा इन्ही सब मुद्दों पर विशाल सम्मेलन 04 मार्च को केवलारी के रायखेड़ा में आयोजित किया गया है। जारी विज्ञप्ति में गोंगपा के मीडिया प्रभारी विवेक डहेरिया ने बताया है कि इस सम्मेलन में गोंगपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष हीरासिंह मरकाम मौजूद रहेंगे। इस सम्मेलन में जिले में किसानों के साथ मुआवजा वितरण में की जा रही लापरवाही आमजनता के साथ अन्याय अत्याचार,शोषण और शासकीय योजनाओं में किये जा रहे भ्रष्टाचारों एवं भाजपा विधायक की आदिवासी विरोधी टिप्पणियों का विरोध किया जायेगा। मीडिया प्रभारी के अनुसार जिले में कई गा्रामों में अभी भी किसानों की पाला से प्रभावित हुई फसलों का सर्वे नहीं हो पाया है ओैर जहां पर सर्वे हुआ है तो अनेक स्थानों पर मुआवजा वितरण नहीं हो पाया है। वहीं राजस्व विभाग के अधिकारियों ने कागजी आंकड़े बनाकर तैयार कर लिये हैं। जिसका प्रचार-प्रसार भाजपा व उनके जनप्रतिनिधियो के द्वारा किया जा रहा है परंतु किसानों को किसी भी तरह से राहत नहंीं मिल पा रही है मुआवजा वितरण कार्य में सिवनी जिला प्रशासन पूरी तरह विफल रहा है। वहीं ग्राम थांवरी का आदिवासी युवा किसान के द्वारा खेती किसानी में हो रहे लगातार घाटे व बढ़ते कर्ज के कारण आत्महत्या कर लिया गया , परंतु उसकी आत्महत्या के कारण को जैसा कि अन्य किसानों की आत्महत्या के मामले में म.प्र. की सरकार विधानसभा में शराबी व पागल बनाकर प्रस्तुत कर रही है उसी तरह सिवनी में भी प्रशासन और भाजपा की विधायिका समझ से परे बताकर कोई नया कारण बनाने का प्रयास कर रहें है। साथ में वोट के आंकड़ों का हवाला देकर एवं मुआवजे को राजनैतिक रंग देकर मुआवजा के मामले में भाजपा पार्टी की विधायिका श्रीमती नीता पटेरिया यह भी कह रही हैं कि कौन से मुझे इस क्षेत्र से वोट मिले थे। वहीं कौन आदिवासियों ने मुझे वोट दिया है आदिवासियों ने वोट तो गोंगपा, मुनमुन राय, व कांग्रेस को दिया था। वहंीं हमारे नेता डॉ. ढालङ्क्षसह बिसेन भी आदिवासियों के वोट नहीं मिल पाने के कारण हार गये और तो और भाजपा में जो भी आदिवासी नेता आये हेैं वे सभी किसी दूसरी पार्टी से आये हैं या फिर स्वार्थ वस पार्टी में आये हैं । इस तरह की बयान बाजी करके म.प्र. में सत्तारूढ़ दल भाजपा के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा आदिवासी सम्मान यात्रा के दौरान आदिवासी मेरे लिए भगवान है जैसी बातों को कहने पर प्रश्र चिन्ह लगा रहीं हैं। आज जनता के साथ बढ़ृ रहे अन्याय, अत्याचार शोषण एवं किसानों का मुआवजा भी भाजपा को वोट देने वाले क्षेत्र के आधार पर ही बनाया जा रहा है। ऐसी जनविरोधी नीतियों के विरोध एवं अन्य समस्याओं को लेकर गोंगपा का विशाल सम्मलेन का आयोजन कल ४ मार्च को किया गया है। सम्मेलन में विशिष्ट अतिथि के रूप में राष्ट्रीय महासचिव श्यामसिंह मरकाम, व अन्य राष्ट्रीय व प्रांतीय पदाधिकारी मौजूद रहेंगे।